Assembly Banner 2021

बजट से पहले झारखंड के लिए चिंता की खबर! कोरोना ने राज्य की अर्थव्यवस्था को किया चौपट

economy

economy

Jharkhand Economy: बजट पेश करने से पहले जो आंकड़े सामने आए हैं, वे हेमंत सरकार को चिंतित कर सकते हैं. कोरोना (Corona) ने राज्य की अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित किया है.

  • Share this:
रांची. झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार (Hemant Government) कल विधानसभा में बजट (Budget) पेश करेगी. इस बीच राज्य की अर्थव्यवस्था को लेकर जो आंकड़े सामने आए हैं, वे चिंतित करने वाले हैं. कोरोना (Corona) ने राज्य की अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित किया है. चालू वित्तीय वर्ष 2020- 2021 में राज्य के GSDP में स्थिर मूल्य में 6.9 प्रतिशत और प्रचलित मूल्य में 3.2 प्रतिशत संकुचन की संभावना है. इस तरह 2020- 21 में GSDP स्थिर मूल्य पर 2, 23, 566 करोड़ एवं प्रचलित मूल्य पर 2,44, 805 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है. हालांकि अगले वित्तीय वर्ष में GSDP में 13.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज होने की उम्मीद है.

झारखंड में प्रति व्यक्ति आय 2011- 12 में 41,254 रुपये था, जबकि 2019- 20 में ये स्थिर मूल्य में 57,863 रुपये और प्रचलित मूल्य में 79,873 रुपये रही. मतलब स्थिर मूल्य में 5.2 प्रतिशत और प्रचलित मूल्य में 9.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई थी.

राज्य की अर्थव्यवस्था के तीनों प्रमुख क्षेत्रों में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है. सकल घरेलू मूल्य वर्धन में खनन- उत्खनन के संयोजन में 2011- 12 में 45.4 प्रतिशत योगदान था, जो वर्ष 2019- 20 में घटकर 41.7 प्रतिशत हो गया. फरवरी 2015 में नई मौद्रिक नीति के बाद देश और झारखंड में मुद्रास्फीति दर कम हो गई है. 2016 से 2019 तक ये 6 प्रतिशत से नीचे रही.



राज्य में जमा राशि औसतन 9.9 प्रतिशत और वित्तीय वर्ष 2014 - 15 और 2019- 20 के बीच 7.9 प्रतिशत की औसत वार्षिक दर से बढ़ी है. राज्य में क्रेडिट डिपॉजिट का अनुपात पिछले कुछ वर्ष में घटा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज