झारखंड में कोरोना से होने वाली मौत का टूटा रिकॉर्ड, 24 घंटे में आए 2844 नए केस

झारखंड में कोरोना संक्रमण की रफ्तार और तेज हो गई है.

झारखंड में कोरोना संक्रमण की रफ्तार और तेज हो गई है.

Jharkhand Corona Deaths: झारखंड में मंगलवार को राज्यभर में 29 लोगों की इलाज के दौरान कोरोना से मौत हो गई. एक दिन में कोरोना से मौत का रिकॉर्ड टूट गया.

  • Share this:
रांची. झारखंड में एक दिन में कोरोना से मौत का रिकॉर्ड मंगलवार को टूट गया. राज्यभर में आज 29 लोगों की इलाज के दौरान कोरोना से मौत हो गई. अभी तक राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 1261 हो गई है. आज बोकारो में दो, पूर्वी सिंहभूम में छह, रांची में छह, हजारीबाग में चार, रामगढ़ और सिमडेगा में तीन-तीन तो धनबाद, गोड्डा, जामताड़ा, खूंटी और पश्चिमी सिंहभूम में एक-एक मौत कोरोना की वजह से हो गई. पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 2844 नए कोरोना केस सामने आए हैं.

राज्य में आज 31, 311 लोगों की कोरोना जांच की गई. 2844 लोग ऐसे मिले जिनमें कोरोना का संक्रमण था. सबसे ज्यादा 1049 संक्रमित रांची में मिले. वहीं पूर्वी सिंघभूम में 434, हजारीबाग में 209, धनबाद में 117, रामगढ़ में 91 ऐसे प्रमुख जिले रहें जहां सबसे ज्यादा केस मिले. प्रदेश में आज जहां 2844 नए कोरोना संक्रमित मिले वहीं 1003 संक्रमित ठीक भी हुए. राज्य में अभी तक 01 लाख 26 हजार 178 लोगों ने कोरोना को मात दी है. 17 हजार 155 एक्टिव केस हैं.

Youtube Video


संक्रमण की रफ्तार तेज
झारखंड में कोरोना संक्रमण की रफ्तार और तेज हो गई है. राष्ट्रीय औसत 0.82% की तुलना में राज्य में संक्रमण का 7डेज ग्रोथ 01.29% से भी बढ़कर 1.43% हो गया है. इसी तरह 7डेज डबलिंग भी घटकर 54.12 दिन से घटकर 48.80 दिन का रह गया है. वही इसका राष्ट्रीय औसत 84.84 दिन है. रिकवरी रेट भी राष्ट्रीय औसत से नीचे चले जाना चिंता बढ़ाने वाला है. राज्य में कोरोना का रिकवरी रेट 88.3% से घटकर 87.62% रह गया है जबकि राष्ट्रीय औसत उससे ज्यादा 89.50 % है. आंकड़े बताते हैं कि राज्य में कोरोना कैसे भयावह रूप लेता जा रहा है.

रांची के सभी निजी अस्पतालों के साथ डीसी की वर्चुअल मीटिंग में डीसी रांची ने सभी अस्पताल प्रबंधकों को राज्य सरकार के निर्देशानुसार 50% बेड कोरोना मरीजों हेतु आरक्षित रखने सम्बन्धी अनुपालन की समीक्षा की. चार अस्पताल संचालकों को डीडीसी ने नोटिस जारी किया. मेडिका हॉस्पिटल, मेदान्ता हॉस्पिटल , सीसी एल हॉस्पिटल गांधीनगर और सेवा सदन को 50 % बेड रिज़र्व नहीं रखने पर शो कॉज जारी किया गया. डीसी ने साफ किया कि सभी अस्पताल जल्द से जल्द 50 बेड आरक्षित करने का दें रिपोर्ट अन्यथा डीएम एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज