झारखंड में 2.52% की दर से बढ़ रहे हैं कोरोना मरीज, मृत्युदर 2.4 प्रतिशत

बिहार में कोरोना संक्रमण से अब तक 5 लोगों की मौत हो चुकी है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
बिहार में कोरोना संक्रमण से अब तक 5 लोगों की मौत हो चुकी है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी ने कहा कि अब तक राज्यभर से 15130 टेस्ट (Corona Test) किए गए हैं. इनमें से 99.17 प्रतिशत टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आई है.

  • Share this:
रांची. झारखंड में कोरोना संक्रमितों (Corona Patients) की संख्या 127 पर पहुंच गई है. हालांकि इनमें से 34 मरीज ठीक होकर घर लौट गये हैं. तीन की मौत हो चुकी है. राज्य में फिलहाल 90 पॉजिटिव केस सक्रिय हैं. स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी (Nitin Madan Kulkarni) ने कहा कि झारखंड में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का ग्रोथ रेट 2.52 प्रतिशत है. अब तक राज्यभर से 15130 टेस्ट किए गए हैं. इनमें से 99.17 प्रतिशत टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आई है. उन्होंने कहा कि राज्य में कोविड-19 संक्रमण से मृत्यु की दर 2.4 प्रतिशत है.

बनाए गए हैं 46 कंटेनमेंट जोन

स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि राज्य में कुल 46 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं. कंटेनमेंट जोन में 71,868 परिवार निवास करते हैं. राज्य में विभिन्न कंटेनमेंट जोन से अब तक 8 हजार 71 लोगों का सैंपल जांच किया गया है. उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों से वापस आने वाले छात्र एवं प्रवासी मजदूरों की स्वास्थ्य जांच राज्य सरकार लगातार करा रही है. स्वास्थ्य जांच को लेकर किसी प्रकार की कमी या लापरवाही नहीं बरती जा रही है. उन्होंने बताया कि 28 अप्रैल से 5 मई 2020 तक मात्र आठ नए पॉजिटिव केस आए थे. परंतु पिछले दिनों फिर यह आंकड़ा बढ़ा और एक ही दिन में 10 पॉजिटिव केस मिले. स्वास्थ्य सचिव के मुताबिक कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए राज्य में जांच में तेजी लाने के प्रयास किये जा रहे हैं. प्रत्येक जिले में कोविड-19 की जांच हो सके, इसके लिए जांच केंद्र बनाए जा रहे हैं.



51935 गर्भवती महिलाओं की सूची तैयार
स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि राज्य में कुल 51935 गर्भवती महिलाओं की सूची तैयार की गई है. इस सूची के अनुसार इन गर्भवती महिलाओं का मई महीने के अंत तक प्रसव होना है. उन्होंने कहा कि प्रोटोकॉल के तहत इन सभी गर्भवती महिलाओं को ससमय प्रसव से संबंधित सभी चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध हो, यह सरकार की प्राथमिकता है. 4 मई को ही राज्य सरकार ने सरकारी चिकित्सकों एवं चिकित्सा संस्थानों को निर्देश दिया गया है कि कोविड-19 के अलावा अन्य बीमारियों का भी उपचार प्राथमिकता के तौर पर किया जाए. उन्होंने विश्वास जताया कि अब मरीजों के उपचार में अस्पताल के द्वारा लापरवाही नहीं बरती जाएगी.

वाहन पास हेतु epassjharkhand.nic.in पर आवेदन कर सकते हैं

आपदा विभाग के सचिव अमिताभ कौशल ने कहा कि वैसे मजदूर जो अभी भी दूसरे राज्यों में फंसे हैं वे राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए कंट्रोल रूम के नंबर एवं हेल्पलाइन नंबर पर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. उन्होंने कहा कि प्रवासी मजदूरों को वापस आने में किसी प्रकार का कोई किराया अथवा अपना पैसा देने की आवश्यकता नहीं है. अब तक 12 ट्रेनों से प्रवासी मजदूर झारखंड वापस लौटे हैं. रेल और बस सेवा से अब भी लोगों का आना जारी है. उन्होंने कहा कि अब इंटर स्टेट, इंटर डिस्ट्रिक्ट इत्यादि वाहन पास हेतु epassjharkhand.nic.in पर अपना आवेदन दे सकते हैं. कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए राज्य सरकार की ओर से अब तक कुल 57 करोड़ 83 लाख 28 हजार राशि आवंटित हो चुकी है.

परिवहन सचिव के रवि कुमार ने बताया कि कुल 10 हजार 55 लोग ट्रेनों के माध्यम से प्रदेश वापस पहुंच चुके हैं. वहीं बस सेवा से 6500 लोग एवं निजी वाहन अथवा अपने संसाधन से 2048 लोग अपने घरों तक पहुंचे हैं.

इनपुट- उपेन्द्र कुमार

ये भी पढ़ें- COVID-19: बोकारो जिला हुआ कोरोना मुक्त, सभी 9 मरीज की रिपोर्ट आई निगेटिव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज