Home /News /jharkhand /

Booster Dose: आज से झारखंड में बुजुर्गों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को लग रही बूस्‍टर डोज, इन बातों का रखें ध्यान

Booster Dose: आज से झारखंड में बुजुर्गों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को लग रही बूस्‍टर डोज, इन बातों का रखें ध्यान

झारखंड में हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ  60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को कोरोना की तीसरी डोज दी जाएगी.

झारखंड में हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को कोरोना की तीसरी डोज दी जाएगी.

Booster Dose: झारखंड में भी हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ  60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को कोरोना की तीसरी डोज दी जा रही है. झारखंड में 12 लाख लोगों को निर्धारित समय पर बूस्टर डोज लगनी है.  जिन लोगों बूस्टर डोज लेने का समय आ गया है, उन्हें आठ जनवरी से ही मैसज के जरिए सूचित किया जा रहा है.

अधिक पढ़ें ...

रांची. आज यानी कि सोमवार से देशभर में प्रीकॉशन या बूस्टर डोज(Booster Dose) देने की शुरुआत हो रही है. झारखंड में भी हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ  60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को कोरोना की तीसरी डोज लग रही है . इसके लिए जिलों में तैयारी पूरी कर ली गई है. जानकारी के मुताबिक, लगभग 12 लाख लोगों को निर्धारित समय पर बूस्टर डोज लगनी है.  जिन लोगों बूस्टर डोज लेने का समय आ गया है, उन्हें आठ जनवरी से ही मैसज के जरिए सूचित किया जा रहा है. वे सभी चिकित्साकर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर जिन्हें वैक्सीन की दोनों डोज लिए हुए  90 या उससे अधिक दिन हो चुके हैं, उन्हें तीसरी डोज दी जाएगी.

बूस्टर डोज लगवाते समय इन बातों का रखें ध्यान 

बता दें  कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को देखते हुए इस प्रीकॉशन डोज को काफी महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है. जिन लोगों को बूस्टर डोज लगना है वे आनलाइन अप्वाइंटमेंट के साथ-साथ वे सीधे किसी भी कोविड वैक्सीनेशन केंद्र पर जाकर वैक्सीन लगवा सकते हैं.

बूस्टर डोज वही वैक्सीन होगी जो पहले दो डोज में दी गई थी. यानि कि जिन लोगों को पहले कोविडशिल्ड लगी है उन्हें तीसरी डोज भी इसी का दिया जाएगा. वहीं जिन्होंने कोवैक्सीन की दोनों डोज लगवा रखी हैं उन्हें कोवैक्सीन की ही बूस्टर डोज दी जाएगी. इसके लिए पंजीयन और टीकाकर्मियों को अपनी पहली वैक्सीन की जानकारी देकर उसी की तीसरी डोज लेनी चाहिए.

राज्य में हेल्थ केयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स की संख्या करीब 2,09,658 और 3,68,691 है. इनमें 1.88 लाख हेल्थ केयर वर्कर्स और 3.23 लाख फ्रंट लाइन वर्कर्स दोनों डोज ले चुके हैं. राज्य के 60 साल से अधिक उम्र के 32,31,563 बुजुर्गों में वैसे बुजुर्गों को भी बूस्टर डोज लगाई जाएगी जो किसी न किसी बीमारी से ग्रसित हैं.

जानें क्यों जरूरी है बूस्टर डोज

वैक्सीन के बूस्टर डोज से कोविड-19 के खिलाफ अतिरिक्त सुरक्षा मिलेगी. फिलहाल कोविड-19 वैक्सीन के दोनों डोज प्रभावी हैं और इससे कोरोना महामारी के नए वेरिएंट से लड़ने में मदद मिल रही है. जिसकी वजह से गंभीर बीमारियों से व्यक्ति का बचाव हो रहा है. लेकिन समय के साथ-साथ वैक्सीन का प्रभाव कम होने लगता है. दरअसल कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट के कारण पुनः संक्रमित होने का खतरा बढ़ गया है. इस कारण से ही प्रीकॉशन डोज के तौर पर वैक्सीन का बूस्टर डोज देने का फैसला किया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 25 दिसंबर को इसकी घोषणा की थी.

Tags: Booster Dose, Coronavirus, Jharkhand news, Omicron

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर