अपना शहर चुनें

States

COVID-19: झारखंड में न्यायाधीशों ने प्रधानमंत्री राहत कोष में भेजे डेढ़ करोड़ रुपए

उन्होंने बताया कि सभी ने अपने वेतन से पीएम केयर्स कोष के लिए यह राशि एकत्रित की थी. (फाइल फोटो)
उन्होंने बताया कि सभी ने अपने वेतन से पीएम केयर्स कोष के लिए यह राशि एकत्रित की थी. (फाइल फोटो)

उच्च न्यायालय (high Court) के प्रवक्ता ने बताया कि उच्च न्यायालय एवं निचली अदालतों के न्यायाधीशों, कर्मचारियों, और रजिस्ट्री कार्यालय के कर्मचारियों ने डेढ़ करोड़ रुपए दिए हैं.

  • Share this:
रांची. पूरे देश में कोरोना वायरस (Corona virus) का प्रकोप बढ़ते जा रहा है. अभी तक इसकी चेपट में आकर 36 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. सैकड़ों लोगों की मौत हो गई है. हालांकि, कोरोना वारियर्स इस वायरस के प्रसार को रोकने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं. वहीं, कई फिल्मी स्टार्स और उद्योगपतियों ने पीएम केयर्स फंड में करोड़ों रुपए दान की है. अब ताजा मामला झाररखंड (Jharkhand) की राजधानी रांची से सामने आया है. यहां पर झारखंड उच्च न्यायालय एवं राज्य की निचली अदालतों के न्यायाधीशों (Judges) तथा न्यायिक अधिकारियों ने अपने वेतन से 1,50,13,816 रुपये एकत्रित कर सोमवार को कोरोना संकट से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बनाये गये पीएम केयर्स कोष (PM Cares Fund) में भेजे हैं.

उच्च न्यायालय के प्रवक्ता ने बताया कि उच्च न्यायालय एवं निचली अदालतों के न्यायाधीशों, कर्मचारियों, और रजिस्ट्री कार्यालय के कर्मचारियों ने डेढ़ करोड़ रुपये से अधिक की यह राशि पीएम केयर्स कोष में दान दी है. उन्होंने बताया कि सभी ने अपने वेतन से पीएम केयर्स कोष के लिए यह राशि एकत्रित की थी.

पुलिसकर्मियों ने आठ करोड़ 30 लाख 15 हजार 40 रुपए दिए थे
हालांकि, कोरोना वायरस के खिलाफ जारी लड़ाई में पुलिसकर्मी भी पीछे नहीं है. बीते 24 अप्रैल को  झारखंड पुलिस ने मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष के लिए अपने कर्मियों के एक दिन के वेतन का आठ करोड़ 30 लाख 15 हजार 40 रुपये मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को सौंपे थे. एक सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया था कि मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से झारखण्ड मंत्रालय में अपर मुख्य सचिव एल. खियांग्ते एवं पुलिस महानिदेशक एम. वी. राव ने मुलाकात कर मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष के लिए आठ करोड़ तीस लाख पंद्रह हजार चालीस रुपये की राशि का चेक सौंपा. तब सीएम हेमन्त सोरेन  ने कहा था कि कोरोना संक्रमण के इस संकट की घड़ी में आपसी सहयोग महत्वपूर्ण है. जनमानस के हितों की रक्षा के लिए सक्षम संस्थान एवं सक्षम व्यक्तियों को आगे आने की आवश्यकता है.
(इनपुट- भाषा)



ये भी पढ़ें- 

Lockdown में बोकारो ने मारी बाजी,मजदूरों को काम देने में प्रदेश में आया फर्स्ट

केरल से धनबाद पहुंचे 1175 मजदूरों का मलाल, बोले- 860 रुपये में कटाना पड़ा टिकट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज