दिल्ली में हेमंत सोरेन से मिले सीपीआई नेता डी राजा, बोले- हजारीबाग पर बनती है हमारी दावेदारी

दिल्ली में जेएमएम नेता हेमंत सोरेन से सीपीआई नेता डी राजा मिले. इस दौरान वामदलों को भी गठबंधन का हिस्सा बनाने पर चर्चा हुई. दरअसल जेएमएम चाहता है कि लेफ्ट पार्टियों को भी गठबंधन में जगह दी जाए.

News18 Jharkhand
Updated: March 16, 2019, 7:27 AM IST
दिल्ली में हेमंत सोरेन से मिले सीपीआई नेता डी राजा, बोले- हजारीबाग पर बनती है हमारी दावेदारी
सीपीआई नेता डी राजा (फाइल फोटो)
News18 Jharkhand
Updated: March 16, 2019, 7:27 AM IST
झारखंड महागठबंधन की सियासत दिल्ली शिफ्ट हो गई है. जेएमएम नेता हेमंत सोरेन के बाद जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी भी दिल्ली पहुंच गये हैं. आज दोनों की मुलाकात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से होने वाली है. इस दौरान सीट शेयरिंग को अंतिम रूप देने की कोशिश होगी.

इससे पहले शुक्रवार को दिल्ली में जेएमएम नेता हेमंत सोरेन से सीपीआई नेता डी राजा मिले. इस दौरान वामदलों को भी गठबंधन का हिस्सा बनाने पर चर्चा हुई. दरअसल जेएमएम चाहता है कि लेफ्ट पार्टियों को भी गठबंधन में जगह दी जाए. इस मुलाकात के बाद हेमंत सोरेन ने कहा कि वामदलों को भी महागठबंधन में जगह दिए जाने पर विचार करना चाहिए. इस कड़ी में कांग्रेस को पहल करनी चाहिए.

सीपीआई नेता डी राजा ने कहा कि हम चाहते हैं बीजेपी को हराया जाए. इसलिए सभी विपक्षी पार्टियां एकसाथ आएं. बिहार और झारखंड में कुछ सीटों को लेकर महागठबंधन से बातचीत चल रही है. झारखंड की हजारीबाग सीट पर हमारी दावेदारी बनती है.



इधर रांची में वामदलों ने लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया. रांची स्थित भाकपा माले के कार्यालय में संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान इसकी घोषणा की गई. इस दौरान एक सुर में सीपीआई, सीपीआईएम, माले और मासस के नेताओं ने स्पष्ट किया कि जिन सीटों पर वामदलों का प्रत्याशी नहीं होगा, वहां विपक्ष के प्रत्याशी को समर्थन दिया जाएगा.

ऐलान के मुताबिक माले कोडरमा और पलामू, सीपीआई हज़ारीबाग़, सीपीआईएम राजमहल और मासस धनबाद सीट पर उम्मीदवार उतारेंगे. हालांकि वाम नेताओं ने कहा कि महागठबंधन की स्थिति अबतक तय नहीं हो पाई है. ऐसे में सीपीआईएम और मासस की ओर से अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है.

इनपुट- दिवाकर

ये भी पढ़ें- इन सीटों पर चुनाव लड़ने का वामदलों ने किया ऐलान
Loading...

झारखंड महागठबंधन: 'पांच' के पेंच में फंसा सीट शेयरिंग का फॉर्मूला

 

 
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...