अपना शहर चुनें

States

रांची में बिहार से आए अपराधियों का गिरोह सक्रिय, फर्जी पुलिसवाला बनकर महिलाओं से कर रहे ठगी

रांची में महिलाओं से ठगी के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर)
रांची में महिलाओं से ठगी के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Ranchi News: रांची पुलिस ने इस गिरोह का पर्दाफाश करने के लिए स्पेशल टीम का गठन किया है. इस गिरोह के द्वारा राजधानी के अरगोड़ा और पंडरा इलाके में ठगी की घटनाओं को अंजाम दिया गया.

  • Share this:
रांची. बिहार से आए अपराधी राजधानी रांची में लोगों को चूना लगाने में जुटे हुए हैं. ये अपराधी फर्जी पुलिसवाला बनकर महिलाओं को निशाना बना रहे हैं. रांची में हाल इस तरह की दो घटनाएं पुलिस (Ranchi Police) के संज्ञान में आ चुकी है. रांची पुलिस ने इस गिरोह का पर्दाफाश करने के लिए स्पेशल टीम का गठन किया है. इस गिरोह के द्वारा अरगोड़ा और पंडरा इलाके में घटना को अंजाम दिया गया.

पुलिस के मुताबिक दोनों घटनाओं में समानता है. दोनों ही जगह पर महिलाओं को सरेराह ठगी का शिकार बनाया गया. जब तक वे कुछ समझ पाती काफी देर हो चुकी थी. दोनों ही जगह फर्जी पुलिस के रूप में अपराधी सामने आए और घटना को अंजाम दे फरार हो गए.

पुलिस के मुताबिक इस गिरोह के 4 से 5 सदस्य रांची में सक्रिय हैं, जो घटना को अंजाम दे रहे हैं. इनके द्वारा महिलाओं को शहर में बढ़ते छिनतई की घटना का हवाला दिया जाता है और फिर उनसे चेन और अन्य गहनों को कागज में  रखने को कहा जाता है. ये सब बातें ये लोग फर्जी पुलिसवाले बनकर करते हैं. इनका कहना होता है कि शहर में बढ़ती छिनतई पर लगाम लगाने को लेकर वे सादे लिबास में ड्यूटी पर हैं. महिलाएं जब इनपर भरोसा कर इन्हें अपनी ज्वेलरी कागज में मोड़कर रखने के लिए दे देती हैं, तभी ये ठगी को अंजाम देते हैं.



ये अपराधी शहर के किसी भी जगह पर पहुंच गहने पहनी महिलाओं की राह देखते हैं. इस दौरान दो अपराधी एक साथ रहते हैं, जबकि दो अन्य उनसे कुछ दूर पर अलग-अलग खड़े रहते हैं. जैसे ही कोई महिला ज्वेलरी पहनी हुई उनके पास आती है, ज्वेलरी चुराने का खेल शुरू हो जाता है. पहले तो ये अपराधी बड़े ही शातिराना अंदाज में महिला को विश्वास में लेते हैं. उसके लिए उसके दो साथी जो थोड़ी दूर पर खड़े होते है उनका सहारा भी लिया जाता है. उनका साथी सोने की अंगूठी पहने होता है. अपनी अंगूठी को कागज में मोड़ कर साथ खड़े दो अपराधियों के हाथों में थमा देते हैं. फिर उसे जाने को कहते हैं. जिसके बाद वहां खड़ी महिला को भी चेन और अन्य जेवरात मांग उसे भी कागज में मोड़कर दिया जाता है. उनसे कहा जाता है कि इसे घर जाकर ही खोले ताकि किसी और की नजर जेवरात पर ना पड़े, लेकिन जब घर जाकर कागज खोला जाता है तो उसमें जेवर नहीं होते हैं.
रांची में आए दिन छिनतई के मामले सामने आ रहे हैं. इन घटनाओं को देखते हुए पुलिस भी एक्टिव रहती है. लोगों से अपील भी पुलिस के द्वारा की जाती है कि भीड़भाड़ या सुनसान इलाकों में ज्वेलरी पहनकर ना निकलें. पर इस तरह का कोई अभियान पुलिस के द्वारा सड़कों पर नहीं चलाई जाती कि महिलाओं से सड़कों पर ज्वेलरी खोलने को कहा जाए. इस तरह की घटनाओं को देखते हुए रांची सिटी एसपी ने लोगों से अपील की है कि वे किसी भी तरह से ऐसे लोगों के झांसे में ना आए और अगर ऐसा कोई कहता है तो पुलिस को तुरंत इसकी सूचना दें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज