झारखंड में कोरोना से होने वाली मौत का आंकड़ा बढ़ रहा, आज 31 लोगों ने संक्रमण से गंवाई जान

झारखंड में कोरोना का कहर बढ़ने के साथ ही मरने वालों का आंकड़ा भी हर दिन बढ़ रहा है. श्मशानों में जगह कम पड़ रही है.

झारखंड में कोरोना का कहर बढ़ने के साथ ही मरने वालों का आंकड़ा भी हर दिन बढ़ रहा है. श्मशानों में जगह कम पड़ रही है.

झारखंड हर दिन एक ऐसा रिकॉर्ड बना रहा है, इस बार कोरोना से होने वाली मौत के मामलों में रिकॉर्ड बनाया है, 13 अप्रैल को जहां राज्य में 29 संक्रमितों की मौत हुई थी, वहीं आज यानि बुधवार को 31 लोगों ने कोरोना संक्रमण के चलते अपनी जान गंंवाई है.

  • Last Updated: April 15, 2021, 12:31 AM IST
  • Share this:
रांची. झारखंड कोरोना संक्रमण बेकाबू रफ्तार से बढ़ रहा है, इससे हर रोज नया रिकॉर्ड बन रहा है, इस बार ये रिकॉर्ड मौत के बारे में है, बुधवार को 31 लोगों की कोरोना ने जान ले ली, जबकि 13 अप्रैल को राज्य में 29 संक्रमितों की मौत हुई थी. इसमें सबसे ज्यादा 9 संक्रमितों की मौत पूर्वी सिंहभूम में हुई है.

इस वर्ष लगातार सबसे ज्यादा मौत और संक्रमित रांची में मिल रहे थे, पर आज पहली बार एक दिन में सबसे ज्यादा मौत के मामले में पूर्वी सिंहभूम ने रांची को पीछे छोड़ दिया है. आज 09 लोगों की कोरोना से मौत पूर्वी सिंहभूम में हुई है. वहीं रांची में 07 लोगों ने कोरोना की वजह से जान गंवाई है. धनबाद में 5 लोगों की जान कोरोना से गयी है. राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 1292 हो गयी है.

झारखंड में आज 3198 नए संक्रमित मिले

झारखंड में आज 3198 नए संक्रमित मिलने के साथ ही कोरोना पॉजिटिव की कुल संख्या 01 लाख 47 हजार 792 हो गयी है. वहीं 1798 संक्रमित के ठीक होने के साथ राज्य में 01 लाख 27 हजार 976 कोरोना संक्रमित ठीक हुए हैं. अभी राज्य में कोरोना के 18 हजार 524 एक्टिव केस हैं.
किन जिलों में मिले सबसे ज्यादा संक्रमित

बुधवार को रांची में सबसे ज्यादा संक्रमित मिले, रांची में 1273, पूर्वी सिंहभूम में 368, बोकारो में 130, हजारीबाग में 127, कोडरमा में 125, धनबाद में 160, रामगढ़ में 117 कोरोना संक्रमित नए पेशेंट मिले हैं.

रिकवरी रेट में गिरावट जारी, संक्रमण की रफ्तार तेज



झारखंड में कोरोना संक्रमण की रफ्तार और तेज हो गयी है. राष्ट्रीय औसत 0.87 % की तुलना में राज्य में संक्रमण का 7 डेज ग्रोथ 01.43% से भी बढ़कर 1.54% हो गया है, इसी तरह 7 डेज डबलिंग भी 48.80 दिन से घटकर 45.33 दिन का रह गया हैं. वहीं इसका राष्ट्रीय औसत 80.05 दिन का है. रिकवरी रेट भी राष्ट्रीय औसत से नीचे चले जाना चिंता बढ़ाने वाला है. राज्य में कोरोना का रिकवरी रेट 87.62% से घटकर 86.59% रह गया है. जबकि राष्ट्रीय औसत उससे ज्यादा 88.90 % है. आंकड़े बताते हैं कि राज्य में कोरोना कैसे भयावह रूप लेता जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज