डॉ. जगन्नाथ मिश्र: चारा घोटाले में सजा तो मिली, लेकिन जेल नहीं काटनी पड़ी

News18 Jharkhand
Updated: August 19, 2019, 2:09 PM IST
डॉ. जगन्नाथ मिश्र: चारा घोटाले में सजा तो मिली, लेकिन जेल नहीं काटनी पड़ी
चारा घोटाले में जगन्नाथ मिश्र को सजा तो मिली, लेकिन जेल नहीं काटनी पड़ी (फाइल फोटो)

चाईबासा कोषागार मामले में रांची की सीबीआई अदालत ने जगन्नाथ मिश्रा को पांच साल की सजा सुनाई थी. 24 जनवरी 2018 को यह सजा सुनाई गई थी.

  • Share this:
संयुक्त बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री (Former CM) जगन्नाथ मिश्र (Jagannath Mishra) का आज दिल्ली में निधन (Demise) हो गया. वे काफी समय से बीमार चल रहे थे. इसी ग्राउंड पर उन्हें चारा घोटाले (Fodder Scam) में झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High court) से जमानत भी मिली थी. चारा घोटाले के चाईबासा कोषागार से जुड़े दो मामलों में उन्हें चार और पांच साल की सजा मिली थी. जबकि दुमका और देवघर मामले में वे बरी हो गये थे. डोरंडा मामले में सुनवाई पूरी नहीं हो पाई. यानि उन्हें चारा घोटाले में सजा तो मिली, लेकिन वे लालू प्रसाद की तरह जेल नहीं गुजारे.

सजा मिली, पर जेल नहीं काटे

चारा घोटाला के चाईबासा कोषागार मामले में रांची की सीबीआई अदालत ने जगन्नाथ मिश्रा को पांच साल की सजा सुनाई थी. 24 जनवरी 2018 को यह सजा सुनाई गई थी. लेकिन फैसले के दिन डा. मिश्र कोर्ट में उपस्थित नहीं हुए. इस कारण उनके खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी हुआ. जिसके बाद डॉ. मिश्र ने 5 जनवरी 2018 को अदालत में आत्मसमर्पण किया था. अदालत ने उन्हें रांची के बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा भेज दिया था. करीब 2 घंटे जेल में रहने के बाद उनके सीने में दर्द शुरू हुआ, तो इलाज के लिए उन्हें रिम्स में भर्ती कराया गया. 16 फरवरी को उन्हें झारखंड हाईकोर्ट से जमानत मिल गई. इसके बाद इलाज के नाम पर उनकी बेल अवधि बढ़ती गई.

दो मामलों में हुए थे बरी

इससे पहले 23 दिसंबर 2017 को देवघर कोषागार मामले में पूर्व सीएम को सीबीआई की अदालत ने बरी कर दिया था. 20 मार्च 2018 को दुमका मामले में भी वे बरी हो गये. जबकि डोरंडा मामले में सुनवाई पूरी नहीं हुई.

चारा घोटाले में डॉ. मिश्रा को बेल मिलने पर आरजेडी नेताओं ने आपत्ति जताते हुए 'जगन्नाथ को बेल और लालू को जेल' का नारा दिया था. इस पर कोर्ट ने सभी को नोटिस भी भेजा था. कुल मिलाकर चारा घोटाले में डॉ मिश्र को लालू प्रसाद से सजा भी कम मिली. हालांकि जो भी मिली, उन्हें सजा काटनी नहीं पड़ी.

इनपुट- नीरज नयन चौधरी
Loading...

ये भी पढ़ें- लालू प्रसाद यादव के लिए चलना-फिरना भी हुआ मुश्किल, इस बीमारी ने बढ़ाई परेशानी

नदी में बढ़ा पानी, तो पत्ते की तरह बहा साढ़े 3 करोड़ का पुल

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 2:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...