• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • Dhanbad Judge Murder: भाई ने कहा- अपराध नहीं रोक सकते तो CM हेमंत सोरेन दें इस्तीफा

Dhanbad Judge Murder: भाई ने कहा- अपराध नहीं रोक सकते तो CM हेमंत सोरेन दें इस्तीफा

धनबाद में मॉर्निंग वाक के दौरान ऑटो से टक्कर मारकर जज उत्तम आनंद की हत्या कर दी गई.

धनबाद में मॉर्निंग वाक के दौरान ऑटो से टक्कर मारकर जज उत्तम आनंद की हत्या कर दी गई.

Dhanbad Judge Murder: झारखंड के इतिहास में पहली बार किसी जज की हत्या हुई है. इससे अपराधियों के मनोबल और कानून के राज पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. परिवारवालों ने इस मामले में उच्च स्तरीय जांच की मांग की है.

  • Share this:

    रांची. झारखंड के धनबाद में जज उत्तम आनंद की हत्या मामले (Dhanbad Judge Murder) में परिवार ने उच्च स्तरीय जांच की मांग की है. पिता सदानंद प्रसाद ने न्यूज-18 से खास बातचीत करते हुए कहा कि जज की हत्या साजिश के तहत की गई है. वहीं, भाई सुमन ने बताया कि जब जज डाल्टेनगंज में पोस्टेड थे तो वहां भी उनको धमकियां मिली थीं. वहां से धनबाद आए तो कई बेल रिजेक्ट किए. कई अपराधियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई, इसलिए डर तो बना रहता था.

    उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन सरकार (Hemant Soren Govt) में सूबे में पहली बार किसी जज की हत्या हुई. राज्य में अब तक ऐसा पहले नहीं हुआ था. अगर मुख्यमंत्री अपराध नहीं रोक सकते, तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए. आपको बता दें कि जज की हत्या के विरोध में राज्यभर के वकीलों ने न्यायिक कार्य बहिष्कार का ऐलान किया है.

    सुप्रीम कोर्ट ने लिया स्वतः संज्ञान
    उधर, जज मौत मामले में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लिया. सीजेआई एनवी रमना की बेंच ने संज्ञान लेते हुए एक सप्ताह के भीतर मुख्य सचिव और डीजीपी के माध्यम से झारखंड सरकार से जांच पर स्टेटस रिपोर्ट मांगी है. सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि राज्य के मुख्य सचिव और डीजीपी झारखंड में अदालत परिसर के अंदर और बाहर कानून-व्यवस्था की स्थिति का भी ब्योरा देंगे. इधर, राज्यभर के वकीलों ने शुक्रवार को न्यायिक कार्य नहीं करने का ऐलान किया. झारखंड स्टेट बार काउंसिल का एक प्रतिनिधिमंडल इस मामले में राज्यपाल के साथ-साथ मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से भी मुलाकात करेगा.

    हत्या के दो आरोपियों की कोर्ट में पेशी
    इस बीच, धनबाद पुलिस ने इस मामले गिरफ्तार किए गए दो अभियुक्तों लखन कुमार वर्मा एवं राहुल कुमार वर्मा को गुरुवार देर रात सीजीएम के सामने पेश किया. जहां से दोनों आरोपियों को पांच दिनों की रिमांड पर पुलिस को सौंप दिया गया. गिरिडीह से वह ऑटो बरामद किया गया, जिससे जज आनंद को टक्कर मारी गई. बता दें कि जिला व सेशन जज की मौत के मामले में जो सीसीटीवी फुटेज सामने आया, उसमें जानबूझकर टक्कर मारने की बात सामने आ रही है. इस मामले में शक की सुई अमन सिंह गैंग की तरफ जा रही है. बुधवार सुबह मॉर्निंग वाक के दौरान जज को पीछे से ऑटो ने टक्कर मार दी, जिससे उनकी मौत हो गई.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज