Home /News /jharkhand /

अच्छी खबर! दीदी बगिया योजना ने किसानों के लिए खोले प्रगति के द्वार, ऐसे बन रहे हैं उद्यमी

अच्छी खबर! दीदी बगिया योजना ने किसानों के लिए खोले प्रगति के द्वार, ऐसे बन रहे हैं उद्यमी

दीदी बगिया योजना के तहत झारखंड के किसान लाभान्वित हो रहे हैं.  (सांकेतिक तस्वीर)

दीदी बगिया योजना के तहत झारखंड के किसान लाभान्वित हो रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Farmers News: साल 2021 में राज्य सरकार ने मनरेगा योजनाओं में पौधे की मांग एवं गुणवत्ता पूर्ण पौधे की राज्य में अपर्याप्तता के मद्देनजर मनरेगा के तहत दीदी बगिया योजना को लाया था. इस योजना के तहत किसानों को एक उद्यमी के रूप में भी तैयार करना है. योजना के तहत किसानों को बागवानी के लिए प्रोत्साहित किया जाता है. इस योजना से कई किसान लाभान्वित हो रहे हैं. दीदी बगिया योजना के जरिए प्रदेश के प्रशिक्षित किसानों को पौधा तैयार करने का मौका मिला. इसके बाद सरकार ने पौधे की खरीदारी मनरेगा योजना के तहत सुनिश्चित की. 

अधिक पढ़ें ...

रांची. पूरे देश में किसानों (Farmers Schemes) के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही है. वहीं, राज्य स्तर पर भी किसानों के विकास पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है. झारखंड में भी दीदी बगिया योजना (Didi Bagia Yojana) लायी गयी, जिसका फायदा अब किसानों को हो रहा है. बता दें कि साल 2021 में राज्य सरकार ने नरेगा योजनाओं में पौधे की मांग एवं गुणवत्तापूर्ण पौधे की राज्य में अपर्याप्तता के मद्देनजर मनरेगा के तहत दीदी बगिया योजना को लाया था. इस योजना के तहत किसानों को एक उद्यमी के रूप में भी तैयार करना है. योजना के तहत किसानों को बागवानी के लिए प्रोत्साहित किया जाता है. इस योजना का लाभ लेकर कई किसान लाभान्वित हो रहे हैं.

दीदी बगिया योजना के जरिए प्रदेश के प्रशिक्षित किसानों को पौधा तैयार करने का मौका मिला. इसके बाद सरकार ने पौधे की खरीदारी नरेगा योजना के तहत सुनिश्चित की. कई किसानों ने इस प्रोग्राम से जुड़े कार्यक्रम में हिस्सा लिया, जिससे उन्हें आत्मबल मिला. किसान इमारती पौधों शीशम, गम्हार, सागवान एवं आम के फलदार पौधे आम्रपाली, मालदा, मल्लिका और अन्य प्रजाति के पौधे तैयार कर सरकार को उपलब्ध कराने लगे.

योजना से किसानों को मिल रहा है फायदा
आज माइकल एक्का प्रगतिशील किसान माने जाते हैं. उन्हें भी बागवानी और पौधा तैयार करने के लिए प्रशक्षित किया गया था. माइकल एक्का ने वर्ष 2021-22 में दीदी नर्सरी योजना के जरिए अपनी नर्सरी में शीशम, गम्हार, सागवान और आम के 8000 पौधे लगाए. इन पौधों को नरेगा के आम बागवानी योजना के तहत सरकार द्वारा क्रय कर लिया गया. इससे माइकल को 25 हजार रुपये की आमदनी हुई. दीदी बगिया योजना के माध्यम से माइकल एक्का के लिए अतिरक्ति आजीविका का साधन उपलब्ध हुआ, जिससे उन्हें घर की जरूरतों को पूरा करने में सहयोग मिल रहा है.

दीदी बगिया योजना
बता दें कि झारखंड सरकार हर साल दूसरे राज्य से करोड़ों रुपये के पौधे खरीदती है. दरअसल राज्य में मांग के अनुरूप और सरकार के द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के लिए फलदार और इमारती पौधे उपलब्ध नहीं हैं. ग्रामीण विकास विभाग ने इसी कमी को ध्यान में रखते हुई दीदी बगिया की सोच को धरातल पर उतारने का निर्णय लिया गया है. राजधानी रांची की नर्सरियों में ज्यादातर पश्चिम बंगाल के पौधों की बिक्री होती है. ऐसे में इन पौधों को महंगे में खरीदने की मजबूरी आम लोगों के साथ- साथ विभाग के पास भी होती है.

Tags: Farmers, Jharkhand news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर