होम /न्यूज /झारखंड /दिव्यांग दिवसः बिना हाथ-पैर के पैदा हुआ, लेकिन अपने पैशन से समझौता नहीं किया, बनाता है शानदार पेंटिंग

दिव्यांग दिवसः बिना हाथ-पैर के पैदा हुआ, लेकिन अपने पैशन से समझौता नहीं किया, बनाता है शानदार पेंटिंग

सूरज नायक ने न्यूज18 लोकल को बताया कि उसे पेंटिंग करना बहुत अच्छा लगता है. पेंटिंग करता है तो सारे दुख दर्द मानो छूमंतर ...अधिक पढ़ें

    शिखा श्रेया/रांची. झारखंड के रांची स्थित ऑड्रे हाउस में दिव्यांगता दिवस के मौके पर शनिवार को दिव्यांगों ने अपनी कला का प्रदर्शन किया. इस मौके पर दोनों पैर व हाथ से दिव्यांग पेंटिंग बनाते सूरज नायक सभी का ध्यान खींच रहा था. सूरज व्हील चेयर पर बैठा सूरज पेंसिंल के सहारे कागज पर चित्र उकेरने में मशगूल था और वहां मौजूद लोग उसे देखकर आश्चर्यचकित हो रहे थे.

    दरअसल, सुकुर्हुतु के रहने वाले सूरज को बचपन से पेंटिंग का शौक है. लेकिन हाथ व पैर नहीं होने की वजह से उसे अपने सपनों से समझौता करना पड़ा. भाई की मदद से पेंटिंग की शुरुआत की थी. लेकिन भाई रोजगार के सिलसिले में कोलकाता सिफ्ट हो गया. जिसके बाद पेंटिंग छूट गई. सूरज ने 3-4 महीने पहले यू ट्यूब से सिखकर एक बार फिर से पेंटिंग शुरू की है. इतना कम समय में इतनी अच्छी पेंटिंग करने लगा कि देखने वालों के मुंह से अनायास ही वाह निकल जाता है.

    पेंटिंग है सूरज का पैशन
    सूरज नायक ने न्यूज18 लोकल को बताया कि उसे पेंटिंग करना बहुत अच्छा लगता है. पेंटिंग करता है तो सारे दुख दर्द मानो छूमंतर हो जाते हैं. एक अलग दुनिया में चला जाता हूं. यूट्यूब को जरिए पेंटिंग सिखी. पिछले 4 महीने करीबन 20 से 25 पेंटिंग कर डाली हैं और यह काम करते हुए मुझे बेहद खुशी और सुकून मिलता है. यह करते हुए दिव्यांग की दर्द भी भूल जाते हैं.

    खूब पढ़ना चाहते हैं सूरज
    इतना ही नहीं सूरज खूब पढ़ाई भी करना चाहता है. हालांकि वह आज तक स्कूल नहीं जा सका है. लेकिन पढ़ाई का लेकर जुनून है. वह कहता है कि घर पर माता-पिता के अलावा एक बड़ा भाई व एक छोटा भाई है. बड़ा भाई कोलकाता में काम करता है. पिता और छोटा भाई रंगाई-पुताई का काम करता है. ऐसे में स्कूल जाने का अवसर नहीं मिला. लेकिन अभी भी पढ़ना चाहता है.

    बता दें कि 3 दिसंबर को दिव्यांगता दिवस के अवसर पर कांके रोड स्थित आद्रे हाउस में सार्थक हुनर 2022 का आयोजन किया गया था. जहां प्रदेश के विभिन्न जिलों से अनेकों दिव्यांग अपनी कला की प्रदर्शनी करने पहुंचे थे. यहां दिव्यांगों ने कुकिंग, ज्वेलरी डिजाइनिंग, पेंटिंग आदि कलाओं का प्रदर्शन किया.

    Tags: Jharkhand news, Ranchi news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें