होम /न्यूज /झारखंड /ड्रैगन बोट के नेशनल प्लेयर का दर्द, पुरखों की जमीन बेचकर लिया एशियन चैंपियनशिप में हिस्सा

ड्रैगन बोट के नेशनल प्लेयर का दर्द, पुरखों की जमीन बेचकर लिया एशियन चैंपियनशिप में हिस्सा

एशियन चैंपियनशिप में बेहतर प्रदर्शन के बाद बिरसा टोप्पो का चयन अब वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए हुआ है.

एशियन चैंपियनशिप में बेहतर प्रदर्शन के बाद बिरसा टोप्पो का चयन अब वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए हुआ है.

झारखंड ड्रैगन बोट फेडरेशन की ट्रेजरर पूजा कच्छप का कहना है कि फेडरेशन के पास फंड की कमी है. लिहाजा वह बिरसा और उन जैसे ...अधिक पढ़ें

रांची. झारखंड की प्रतिभा का खेल के क्षेत्र में पूरा देश लोहा मानता है. लेकिन यहां की प्रतिभा को निखारने के लिए जिस बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर की जरूरत है उसका राज्य में घोर अभाव है. लिहाजा देश और प्रदेश का नाम रोशन करने का माद्दा रखने वाले खिलाड़ी पुरखों की जमीन बेचकर आगे बढ़ने को मजबूर हैं. ऐसा ही एक प्रतिभावान खिलाड़ी है रांची का बिरसा टोप्पो.

बिरसा टोप्पो ड्रैगन बोट के खिलाड़ी है. वह रांची के मांडर प्रखंड के ब्रांबे गांव के रहने वाले हैं. 3 दिन पहले ही वह इंडोनेशिया से रांची लौटे हैं. बिरसा टोप्पो इंडोनेशिया एशियन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेकर लौटे हैं. वहां ड्रैगन बोट प्रतियोगिता में भारत को रिप्रेजेंट कर रहे थे.

इस चैंपियनशिप में शामिल होने का पूरा खर्च उन्हें खुद ही उठाना पड़ा, क्योंकि फेडरेशन और सरकार से उन्हें किसी तरह का सहयोग नहीं मिला. जिस कारण बिरसा ने अपने पुरखों की जमीन बेच डाली. उसी पैसे से टोप्पो एशियन चैंपियनशिप के ड्रैगन बोट प्रतियोगिता में भाग ले पाए. हालांकि वह अपनी टीम के साथ प्रतियोगिता जीत नहीं पाए, लेकिन टॉप चार में रहकर उम्मीद जरूर बंधाई है. बता दें कि भारत में वाटर स्पोर्ट्स में झारखंड नहीं केरल का दबदबा रहा है.

सरकार से मदद की गुहार

बिरसा टोप्पो के शानदार प्रदर्शन से उनकी मां सुन्नी देवी काफी उत्साहित हैं, लेकिन सरकार से कोई मदद नहीं मिलने का उन्हें थोड़ा मलाल भी है. बिरसा के चाचा शिवचरण उरांव का कहना है कि बिरसा काफी मेहनत करता है. उसे अगर थोड़ी मदद मिल जाए तो उसकी प्रतिभा और निखर जाएगी.

फेडरेशन के पास फंड का अभाव

झारखंड ड्रैगन बोट फेडरेशन की ट्रेजरर पूजा कच्छप का कहना है कि फेडरेशन के पास फंड की कमी है. लिहाजा वह बिरसा और उन जैसे प्रतिभावान खिलाड़ियों की चाह कर भी मदद नहीं कर पा रहा. अगर सरकार थोड़ा ध्यान दे तो बिरसा जैसे प्रतिभावान खिलाड़ी देश और प्रदेश का नाम रोशन करने ंमें योगदान दे सकेंगे.

वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए सलेक्शन
एशियन चैंपियनशिप में बेहतर प्रदर्शन के कारण बिरसा का चयन अब वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए हुआ है. बिरसा उसकी तैयारियों में जुटा है. साथ ही मदद की आस लगाये भी बैठा है.

Tags: Jharkhand news, Ranchi news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें