• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • दुर्गा पूजा विशेष: इस मंदिर में खुली आंखों से दर्शन करने पर रोशनी जाने की है मान्‍यता, पुजारी भी बांध लेते हैं पट्टी

दुर्गा पूजा विशेष: इस मंदिर में खुली आंखों से दर्शन करने पर रोशनी जाने की है मान्‍यता, पुजारी भी बांध लेते हैं पट्टी

Bhawani Shankar Temple: भवानी शंकर मंदिर पूजा-अर्चना का इतिहास तकरीबन 500 साल पुराना है. (न्‍यू 18 हिन्‍दी/सुनील कुमार)

Bhawani Shankar Temple: भवानी शंकर मंदिर पूजा-अर्चना का इतिहास तकरीबन 500 साल पुराना है. (न्‍यू 18 हिन्‍दी/सुनील कुमार)

Durga Pooja Special: झारखंड की राजधानी रांची के बुढ़मू प्रखंड के ठाकुरगांव स्थित ऐतिहासिक भवानी शंकर मंदिर में पूजा-अर्चना का इतिहास तकरीबन 500 साल पुराना है. इस मंदिर में सबसे पहले कुंवर गोकुलनाथ शाहदेव ने कुलदेवी की पूजा की थी.

  • Share this:

    सुनील कुमार

    रांची. रांची के बुढ़मू प्रखंड में दुर्गा पूजा का मुख्य आकर्षण ठाकुरगांव का ऐतिहासिक भवानी शंकर मंदिर है. यहां दुर्गा पूजा का इतिहास 500 साल पुराना है. नवरात्र शुरू होते ही यहां दूर-दूर से श्रद्धालु पूजा-अर्चना करने आते हैं. नवरात्रि में यहां पूजा के लिए विशेष व्‍यवस्‍था की जाती है. खास बात यह है कि इस मंदिर में तांत्रिक विधि से पूजा होती है. पूजा का इतिहास 500 साल पुराना है. राजपरिवार की कुलदेवी की मां भवानी शंकर मंदिर में 1543 ई. में कुंवर गोकुलनाथ शाहदेव ने पहली बार पूजा की थी. मंदिर में स्थापित अष्‍टधातु की युगल मूर्ति भवानी शंकर पूज्यनीय हैं, दर्शनीय नहीं. मान्यता है कि यहां स्थापित प्रतिमा की खुली आंखों से दर्शन करने पर आंख की रोशनी चली जाती है. दुर्गा पूजा के मौके पर पुजारी आंखों पर पट्टी बांधकर युगल मूर्ति का वस्त्र बदलते हैं एवं पूजा-अर्चना करते हैं.

    मंदिर से 70 के दशक में प्रतिमा चोरी हो गई थी, जो सड़क निर्माण के दौरान रातू के इतवार बाजार के पास मिली थी. लंबी न्यायिक प्रक्रिया के बाद वर्ष 1991 में हाई कोर्ट द्वारा प्रतिमा का अधिकार ठाकुरगांव राजपरिवार को मिला. यहां षष्ठी को मंजन के साथ ही बकरे की बली दी जाती है. सप्तमी को कलश स्थापना और अष्टमी को संधि पूजा के दिन बकरे की बलि दी जाती है. नवमी को सैकड़ों बकरे और भैंसों की बलि देने की परंपरा है. यहां साल भर भवानी शंकर की पूजा करने श्रद्धालु आते रहते हैं, नवरात्रि के मौके पर बड़ी संख्‍या में लोग आते हैं.

    पान बांटने की परंपरा
    दशमी के दिन राजपरिवार के ठाकुर लाल रामकृष्णनाथ शाहदेव और उनके वंशजों द्वारा क्षेत्र के लोगों को पान बांटने की परंपरा है. मान्यता है कि इस मंदिर में मां भवानी शंकर साक्षात विराजमान हैं, इसलिए ठाकुरगांव क्षेत्र में कहीं भी दुर्गा पूजा का पंडाल निर्माण या मूर्ति स्थापना नहीं की जाती है.

    बिहार-झारखंड के बीच सफर अब और होगा आसान, 210 रूट पर बस चलाने का फैसला

     कोविड नियमों का पालन
    मंदिर में पिछले वर्ष की तरह ही दुर्गा पूजा का आयोजन कोविड नियमों के पालन के साथ किया गया है. इस बार भी महानवमी के दिन सिर्फ राजपरिवार और विशिष्‍ट लोग ही बलि अर्पित कर सकेंगे. बता दें कि आम दिनों में महानवमी के दिन मंदिर में आसपास के कई गांवों के हजारों ग्रामीण जुटते हैं और हजारों बकरों की बलि दी जाती है, कोविड के कारण इसे प्रतिबंधित किया गया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज