मैट्रिक परिणाम 60 प्रतिशत से कम रहने का मंत्री की नजर में सीसीटीवी दोषी

झारखंड में मैट्रिक में 60 प्रतिशत से कम ही पास कर पाए हैं.शिक्षा मंत्री का तर्क है कदाचार मुक्त परीक्षा के उपाय से बच्चे घबरा गए हैं.सीसीटीवी कैमरा ने छात्रों को डरा दिया.

rajesh | News18 Jharkhand
Updated: June 13, 2018, 10:13 PM IST
मैट्रिक परिणाम 60 प्रतिशत से कम रहने का मंत्री की नजर में सीसीटीवी दोषी
नीरा यादव-शिक्षा मंत्री,झारखंड सरकार
rajesh | News18 Jharkhand
Updated: June 13, 2018, 10:13 PM IST
झारखंड में शिक्षा व्यवस्था की स्थिति की पोल इसके परीक्षा परिणाम खोल दे रहे हैं.मैट्रिक का रिजल्ट चिंतनीय रहा है. लगभग 40 प्रतिशत परीक्षार्थी फेल हो गए हैं.इंटर साइंस का भी रिजल्ट इससे भी खराब रहा है. शिक्षा मंत्री का तर्क है कदाचार मुक्त परीक्षा के उपाय से बच्चे घबरा गए हैं. मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट 12 जून को आया है जो चिंताजनक है.जैक ने रिजल्ट जारी किया तो पता चला कि राज्य में औसतन 59.48 प्रतिशत बच्चे ही पास कर पाए हैं. इस रिजल्ट की स्थिति को देखते हुए सरकार की नीति पर सवाल खड़े हो रहे हैं.

रघुवर सरकार शिक्षा पर जोर देने का दावा कर रही है. लेकिन रिजल्ट सरकारी प्रयास का आईना दिखा रहे हैं. क्वालिटी एजूकेशन में गिरावट आई है.शिक्षा मंत्री नीरा यादव ने भी  इसकी समीक्षा के लिए अपने प्रोजेक्ट भवन में जैक अध्यक्ष को बुलाकर समीक्षा की. इस मामले में जल्द किसी वरिष्ठ पर गाज गिर सकती है.मैट्रिक में 60 प्रतिशत से कम ही पास कर पाए हैं. मैट्रिक से पहले जैक ने इंटर साइंस और कामर्स का रिजल्ट जारी किया था. साइंस का रिजल्ट काफी खराब रहा.साइंस के आधे से अधिक छात्र-छात्राएं फेल हो गए. अब मैट्रिक रिजल्ट ने स्कूली शिक्षा व्यवस्था की सच्चाई को आईना दिखा दिया है.

निश्चित रुप से स्कूलों में पढ़ाई का स्तर ठीक नहीं है. खराब रिजल्ट के लिए किसी को बलि का बकरा बनाया जाएगा, यह तो बाद में पता चलेगा. लेकिन शक के दायरे में वह उपकरण है जिसके सहारे सब कुछ साफ दिखता है और इसका इस्तेमाल साक्ष्य के रुप में भी रहा है यानि सीसीटीवी कैमरा.शिक्षा मंत्री के अनुसार सीसीटीवी कैमरा ने छात्रों को डरा दिया.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर