Exit Polls 2019: पीएम मोदी के इस रणनीतिकार की बदौलत झारखंड में महागठबंधन हुआ फेल!

न्यूज-18 और आईपीएसओएस के एग्जिट पोल में एनडीए को 10 और महागठबंधन को 4 सीटें मिलती दिखाई गई हैं.

News18 Jharkhand
Updated: May 20, 2019, 3:25 PM IST
Exit Polls 2019: पीएम मोदी के इस रणनीतिकार की बदौलत झारखंड में महागठबंधन हुआ फेल!
झारखंड लोकसभा चुनाव प्रभारी मंगल पांडेय (फाइल फोटो)
News18 Jharkhand
Updated: May 20, 2019, 3:25 PM IST
झारखंड की 14 लोकसभा सीटों के लिए मतदान संपन्न हो चुका है. अब इंतजार रिजल्ट का है, जो 23 मई को सामने आएंगे. उससे पहले तमाम एग्जिट पोल ने सूबे में एनडीए को महागठबंधन पर भारी पड़ता दिखाया है. अगर ये अनुमान परिणाम में बदलते हैं, तो इसके लिए प्रदेश बीजेपी चुनाव प्रभारी मंगल पांडेय को बड़ी क्रेडिट जाएगी.

झारखंड के लिए एग्जिट पोल के अनुमान



न्यूज-18 और आईपीएसओएस के एग्जिट पोल में एनडीए को 10 और महागठबंधन को 4 सीटें मिलती दिखाई गई हैं. वहीं रिपब्लिक- सी वोटर ने एनडीए को 6 और महागठबंधन को 8, इंडिया टुडे- एक्सिस ने एनडीए को 13 और महागठबंधन 1, एबीपी-एसी नीलसन ने एनडीए को 6 और महागठबंधन को 8, न्यूज-24 और चाणक्य ने 10 और 4 सीटें एनडीए और महागठबंधन के लिए अनुमान किये हैं.

चुनाव प्रचार में मंगल पांडेय


बीजेपी को मिल सकती हैं 9 सीटें 

कुल मिलाकर ज्यादातर एग्जिट पोल में एनडीए को महागठबंधन से बढ़त दिखाई गई है. एनडीए के कुनबे में यहां मुख्य रूप से दो दल, बीजेपी और आजसू हैं. बीजेपी 13 और आजसू एक सीट पर चुनाव लड़े. न्यूज-18 और आईपीएसओएस के एग्जिट पोल में बीजेपी को 13 में से 9 और आजसू पार्टी को अपनी सीट जीतती दिखाई गई है.

प्रेस कॉन्फ्रेंस करते मंगल पांडेय

Loading...

इसलिए मंगल पांडेय को भेजा झारखंड

अगर फाइनल नतीजे में बीजेपी इतनी सीटें लाती भी हैं, तो पिछली बार की तुलना में सूबे में ये उसका कमजोर प्रदर्शन होगा. 2014 में बीजेपी को 14 में से 12 सीटें मिली थीं. लेकिन तब विपक्ष एकजुट होकर बीजेपी के सामने नहीं था. इस बार विपक्ष महागठबंधन बनाकर बीजेपी से महामुकाबले के लिए तैयार हुआ. ऐसे में इस बार बदली हुई परिस्थिति के लिए पार्टी आलाकमान ने बिहार के मंत्री मंगल पांडेय को चुनाव प्रभारी बनाकर झारखंड भेजा.

पीएम की देवघर रैली में मंगल पांडेय


महागठबंधन से मुकाबले के लिए बनाई खास रणनीति

मंगल पांडेय ने महागठबंधन से मुकाबले के लिए हर स्तर पर रणनीतियां बनाईं. पार्टी आलाकमान के निर्देशों को जमीन पर उतारने के साथ-साथ प्रदेश संगठन में बड़े नेताओं से लेकर बूथ स्तर तक के कार्यकर्ताओं को चुनाव के लिए तैयार किया. इसके लिए उन्होंने जिलेबार दौरा किया. प्रदेश में जेडीयू और लोजपा को साथ किया. स्टार प्रचारकों के लिए तारीख और सभास्थल भी विशेष रणनीति के तहत तय किये. ऐसे में अगर झारखंड में बीजेपी इस बार अच्छा प्रदर्शन करती है, तो इसमें मंगल पांडेय की भूमिका महत्वपूर्ण मानी जाएगी.

बिहार- हिमाचल में जीता चुके हैं चुनाव 

बिहार के सीवान के रहने वाले मंगल पांडेय को पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का करीबी माना जाता है. वह बिहार बीजेपी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. बतौर प्रदेश अध्यक्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने बिहार में पार्टी को 40 में 22 सीटें दिलाई थीं. उससे पहले उन्होंने साल 2017 में हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में भी पार्टी को जीत दिलाई थी.

ये भी पढ़ें- Jharkhand Exit Poll Results 2019: झारखंड एग्जिट पोल में BJP आगे, कांग्रेस-JMM-JVM को 4 सीटें

एग्जिट पोल से BJP को बस 4 दिन और उत्सव मनाने का मौका मिला: विपक्ष

एग्जिट पोल पर बोले पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी, 'आंकड़ों पर भरोसा नहीं..सब कुछ प्लांटेड है'

 

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...