लाइव टीवी

एक बार फिर बीजेपी के हुए पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी, अमित शाह ने कराई घर वापसी
Ranchi News in Hindi

Naween Jha | News18 Jharkhand
Updated: February 17, 2020, 3:12 PM IST
एक बार फिर बीजेपी के हुए पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी, अमित शाह ने कराई घर वापसी
14 साल बाद पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने बीजेपी में वापसी की (सौ.- एएनआई)

साल 2006 में बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) ने भाजपा की सदस्‍यता से इस्तीफा देकर झारखंड विकास मोर्चा (JVM) नाम से नई पार्टी बना ली थी.

  • Share this:
रांची.झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) एक बार फिर बीजेपी (BJP) के हो गये. रांची के प्रभात तारा मैदान में आयोजित मेगा शो में गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने उनकी घर वापसी कराई. इस दौरान मंच पर बीजेपी उपाध्यक्ष ओम माथुर, केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ समेत प्रदेश के कई सांसद और विधायक मौजूद रहे. चौदह साल बाद घर वापसी पर बाबूलाल मरांडी का जोरदार स्वागत किया गया.

प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ ने कहा कि अब नए झारखंड को लेकर बुने गये सपने को साकार करने का काम होगा. पश्चिमी सिंहभूम में हुए सात ग्रामीणों की हत्या को लेकर भी हेमंत सरकार पर हमला बोलते हुए गिलुवा ने घटना की एनआईए से जांच कराने की मांग की है. केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने बाबूलाल मरांडी के घर वापसी पर खुशी जताते हुए कहा कि समृद्ध और मजबूत भारत के लिए बीजेपी काम करती रही है. देश के विभिन्न समस्याओं पर बारीक नजर रखते हुए गृहमंत्री अमित शाह काम कर रहे हैं. सरहदी इलाकों में भी लोगों को राहत देने का काम किया जा रहा है.

साल 2006 में बीजेपी से हुए थे अलग
कभी आरएसएस के निष्‍ठावान स्‍वयंसेवक और समर्पित भाजपाई रहे मरांडी साल 2006 में पार्टी से मनमुटाव के बाद झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) नाम से अपनी एक नई पार्टी बना ली थी. वह लगातार दो बार कोडरमा लोकसभा सीट से चुनाव जीतकर सांसद बने. इससे पहले वर्ष 1991 में मरांडी ने भाजपा के टिकट पर दुमका लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा, जिसमें उन्‍हें हार का मुंह देखना पड़ा था. साल 1996 में वह शिबू सोरेन से हार गए थे. इसके बाद भाजपा ने वर्ष 1998 में विधानसभा चुनाव के दौरान प्रदेश अध्‍यक्ष बना दिया. पार्टी ने बाबूलाल मरांडी के नेतृत्‍व में झारखंड क्षेत्र की 14 लोकसभा सीटों में से 12 पर कब्‍जा कर लिया था.



2000 में अलग राज्य बनने पर बने पहले सीएम 
साल 1998 के चुनाव में बाबूलाल मरांडी ने शिबू सोरेन को संथाल से हराकर चुनाव जीता था, जिसके बाद एनडीए की सरकार में बिहार के चार सांसदों को कैबिनेट में जगह दी गई, जिसमें से एक बाबूलाल मरांडी भी थे. बिहार से साल 2000 में अलग होकर झारखंड राज्‍य बनने के बाद एनडीए के नेतृत्‍व में बाबूलाल मरांडी ने राज्‍य की पहली सरकार बनाई. हालांकि, बाद में जदयू के हस्‍तक्षेप के चलते उन्‍हें अर्जुन मुंडा को सत्‍ता सौंपनी पड़ी थी.

राजधनवार सीट से चुने गये हैं विधायक 
साल 2004 के लोकसभा चुनाव में उन्‍होंने कोडरमा सीट से चुनाव जीता, जबकि पार्टी के अन्‍य उम्‍मीदवारों को हार का मुंह देखना पड़ा. मरांडी ने कोडरमा सीट सहित 2006 में भाजपा की सदस्‍यता से भी इस्तीफा देकर अपनी नई पार्टी झारखंड विकास मोर्चा बना ली, जिसमें भाजपा के पांच विधायक पार्टी छोड़ शामिल हो गए. इसके बाद कोडरमा उपचुनाव में वे निर्विरोध चुन लिए गए. कोडरमा सीट से साल 2009 का लोकसभा चुनाव जीत कर वह एक बार फिर संसद में पहुंच गए. साल 2014 और वर्ष 2019 में बाबूलाल मरांडी लोकसभा चुनाव हार गये. हाल में संपन्‍न झारखंड विधानसभा चुनाव में वे राजधनवार सीट से विधायक चुने गए हैं.

ये भी पढ़ें- बीजेपी विधायक ढुल्लू महतो पर डेढ़ साल पुराने मामले में रंगदारी का केस दर्ज 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 2:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर