पूर्व स्वास्थ्य मंत्री का आरोप- हेमंत सरकार ने सिर्फ मेडिकल कॉलेजों का नाम बदला, काम कुछ नहीं किया

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री (Ramchandra Chandravanshi) ने कहा कि कोरोना काल में झारखंड को भारत सरकार से 200 करोड़ रुपये मिले, पर राज्य सरकार खर्च नहीं कर पाई. यही वजह है कि कोरोना (Corona) से लोगों की मौत हुई.

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री (Ramchandra Chandravanshi) ने कहा कि कोरोना काल में झारखंड को भारत सरकार से 200 करोड़ रुपये मिले, पर राज्य सरकार खर्च नहीं कर पाई. यही वजह है कि कोरोना (Corona) से लोगों की मौत हुई.

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री (Ramchandra Chandravanshi) ने कहा कि कोरोना काल में झारखंड को भारत सरकार से 200 करोड़ रुपये मिले, पर राज्य सरकार खर्च नहीं कर पाई. यही वजह है कि कोरोना (Corona) से लोगों की मौत हुई.

  • Share this:
रिपोर्ट- अविनाश कुमार

रांची. पूर्व स्वास्थ्य मंत्री सह बीजेपी विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी ने हेमंत सरकार पर स्वास्थ्य के क्षेत्र में कोई भी कार्य नहीं करने का आरोप लगाया. बीजेपी प्रदेश कार्यालय में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में रामचंद्र चंद्रवंशी ने कहा पिछले 5 साल में स्वास्थ्य विभाग में बेहतर कार्य हुए थे. साल 2014 में मृत्यु दर 34 थी, जो साल 2019 आते -आते 29 तक पहुंच गया था. सरकारी अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाई गई. आधारभूत संरचना भी काफी काम हुआ. तीन मेडिकल कॉलेज पलामू, हजारीबाग और दुमका खोले गये. लेकिन वर्तमान सरकार की उदासीनता के चलते इन कॉलेजों में प्रोफेसर की बहाली नहीं हुई. इससे छात्रों को एक साल का नुकसान हुआ.

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना काल में भारत सरकार से 200 करोड़ रुपये मिले, पर राज्य सरकार खर्च नहीं कर पाई. यही वजह है कि कोरोना से लोगों की मौत हुई. वर्तमान सरकार ने सिर्फ मेडिकल कॉलेजों का नाम बदलने का काम किया. स्वास्थ्य के क्षेत्र में वर्तमान सरकार पूरी तरह फेल है.

Youtube Video

बीजेपी का जारी है हमला 

बता दें कि गत 29 दिसंबर को हेमंत सरकार ने झारखंड में एक साल का कार्यकाल पूरा किया. तब से बीजेपी का सरकार पर हमला जारी है. विपक्ष सरकार को हर मोर्चे पर विफल बता रहा है. और जनता को छलने का आरोप लगा रहा है. जबकि सरकार का दावा है कि कोरोना संकट के बावजूद हर क्षेत्र में बेहतर काम करने की कोशिश की गई. लोगों को घर में रोजगार मिले, इसके लिए कई कदम उठाये गये. सरकार का आरोप है कि पिछली रघुवर सरकार ने उसे खाली खजाना सौंपा है, ऐसे में बीजेपी को सरकार के कामकाज पर सवाल उठाने का हक नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज