लाइव टीवी

शिबू सोरेन के करीबी पूर्व सासंद संजीव कुमार ने जेएमएम से दिया इस्तीफा
Ranchi News in Hindi

Naween Jha | News18 Jharkhand
Updated: February 14, 2020, 12:37 PM IST
शिबू सोरेन के करीबी पूर्व सासंद संजीव कुमार ने जेएमएम से दिया इस्तीफा
पूर्व सांसद संजीव कुमार शिबू सोरेन के काफी करीबी रहे हैं. (फाइल फोटो)

जेएमएम महासचिव मनोज कुमार पांडेय ने कहा कि संजीव कुमार के इस्तीफे से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा. इस्तीफा देने का फैसला उनका निजी निर्णय है.

  • Share this:
रांची. पूर्व राज्यसभा सांसद संजीव कुमार (Sanjeev Kumar) ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा (Resign) दे दिया है. पार्टी अध्यक्ष शिबू सोरेन (Shibu Soren) को लिखे पत्र में उन्होंने अपना इस्तीफा स्वीकार करने का आग्रह किया. इसके लिए उन्होंने निजी कारणों का हवाला दिया है. संजीव कुमार शिबू सोरेन के करीबी रहे हैं. कई मामलों में उन्होंने शिबू सोरेन के लिए पैरवी की और राहत दिलाई. वे सुप्रीम कोर्ट के वरीय अधिवक्ता भी हैं.

हालांकि जेएमएम महासचिव मनोज कुमार पांडेय ने कहा कि संजीव कुमार के इस्तीफे से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा. इस्तीफा देने का फैसला उनका निजी निर्णय है.

शशिनाथ झा हत्याकांड और सांसद घूस कांड में शिबू को दिलाई राहत

सुप्रीम कोर्ट के वरीय अधिवक्ता संजीव कुमार वर्ष 2008 में पहली बार जेएमएम की ओर से राज्यसभा सांसद बने थे. गुरुजी के करीबी संजीव कुमार दिल्ली में झामुमो का चेहरा माने जाते थे. शशिनाथ झा हत्याकांड से लेकर सांसद घूस कांड में आरोपी रहे गुरुजी के लिए उन्होंने बतौर वकील केस लड़ा और राहत दिलाई. बदले में पार्टी ने उन्हें राज्यसभा भेजकर पुरस्कृत किया.

राज्यसभा में उठाया था भूख से मौत का मामला  

बतौर राज्यसभा सांसद जून 2018 में संजीव कुमार ने झारखंड में भूख से मौत के मामले को संसद में उठाया था. उच्च सदन में उन्होंने कहा कि झारखण्ड में शासन की लापरवाही से कई लोगों की भूख से अकाल मौत हो गयी. उन्होंने राज्यसभा में झारखण्ड सरकार और वरीय प्रशासनिक अफसरों को इसके लिए जिम्मेवार ठहराते हुए जांच कर कार्रवाई की मांग की. सांसद ने कहा था कि शासन और प्रशासन की लापरवाही के कारण गरीबों को मिलने वाला राशन कई महीनों से बंद था. इस कारण झारखण्ड के विभिन्न हिस्सों में एक के बाद एक भूख से मौतें हुईं.

ये भी पढ़ें- Valentine's Day Spl: झारखंड की वादियों में आज भी इन अमर प्रेम कहानियों की गूंज 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 12:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर