झारखंड: अस्पताल में बेड के लिए इंतजार, श्मशान पर अंत्येष्टि के लिए लंबी कतार

झारखंड में कोरोना का कहर: अस्पतालों से श्मशानों तक लम्बी कतार. 

झारखंड में कोरोना का कहर: अस्पतालों से श्मशानों तक लम्बी कतार. 

कोरोना से होने वाली मौत के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, जिसके बाद श्मशान में भी वेटिंग लिस्ट मिल रही है. ऐसा ही नजारा हरमू मुक्ति धाम स्थित विद्युत शवदाह गृह में नजर आया. यहां कोरोना संक्रमितों की लंबी कतारें दिख रही हैं.

  • Share this:
रांची. कोरोना (Covid 19 ) का कहर राजधानी रांची ( Ranchi) में इस कदर है कि संक्रमितों को अस्पताल में बेड के लिए जद्दोजहद करनी पड़ रही है. कोरोना से होने वाली मौत के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, जिसके बाद श्मशान में भी वेटिंग लिस्ट मिल रही है. ऐसा ही नजारा हरमू मुक्ति धाम स्थित विद्युत शवदाह गृह में नजर आया. यहां कोरोना संक्रमितों की लंबी कतारें दिख रही हैं. कुछ ऐसे भी थे जो शनिवार से अपनों के पार्थिव शरीर के दाह संस्कार (Funeral) का इंतजार कर रहे थे.

कोरोना पॉजिटिव होने वालों की परेशानी क्या है ये बताने की नहीं दिखाने की जरूरत नहीं है, क्योंकि मौत के बाद भी वेटिंग लिस्ट उनका पीछा नहीं छोड़ रही. कोई वैकल्पिक व्यवस्थान होने के कारण मृतक के परिजन परेशान हैं. लोगों का कहना है पहले अस्पताल में बेड के लिए जद्दोजहद और उसके बाद दाह संस्कार के लिए भी कतार लगानी पड़ेगी ऐसा सोचा नहीं था. रविवार को दिखा हरमू मुक्ति धाम स्थित विद्युत शव दाह गृह में मशीन के खराब हो जाने के कारण कोरोना की वजह से काल के गाल में समा गए लोगों की परेशानी मौत के बाद भी बदस्तूर जारी दिखी.

मृतकों के परिजनों ने साझा की परेशानी

गुमला के रहने वाले राजेश बताते हैं कि वो कतार में हैं. उनके परिजन का चौथे नंबर पर अंतिम संस्कार होना था, लेकिन 2 शवों के अंतिम संस्कार के बाद ही विद्युत शव दाह गृह की मशीन खराब हो गई. जिस वजह से अब भी कतार में ही हैं. वहीं उन्होंने बताया कि शव का दाह संस्कार न होने के कारण गुमला स्थित उनके घर में चूल्हा नहीं जल पा रहा. न ही मौत के बाद कि कोई विधि शुरू हो पा रही है. अगर अंतिम संस्कार हो जाए तो मृतक के मोक्ष के लिए विधि की प्रक्रिया शुरू हो पाएगी. वहीं रांची के विजय बताते हैं कि शनिवार शाम से ही वो हरमू मुक्ति धाम के पास अपने रिश्तेदार के दाह संस्कार के लिए कतार में खड़े हैं, लेकिन अबतक उनका इंतजार खत्म नहीं हुआ है.
जिला प्रशासन दिया निर्देश

वहीं पूरे मामले पर जिला प्रशासन गंभीर नजर आई और मामले को लेकर निगम को विद्युत शवदाह गृह को जल्द दुरुस्त करने का निर्देश दिया. हरमू स्थित विद्युत शव दाह गृह के खराब होने कारण 10 से ज्यादा कोरोना पॉजिटव लोगों का शव यूं ही घंटों पड़ा रहा. जिसके बाद परिजनों के आक्रोश के बाद आखिरकार सभी शवों को घाघरा मुक्ति धाम ले जाने का निर्देश जिला प्रशासन के द्वारा ले जाया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज