इस वजह से अधर में लटका झारखंड की 12 होनहार महिला खिलाड़ियों का भविष्य

महिला खिलाड़ियों की माने तो सेंटर ट्रांसफर करने का यह निर्णय गलत समय में लिया गया है. अगले एक-दो माह में कई राष्ट्रीय- अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताएं आयोजित होंगी. उनमें उन्हें शिरकत करना है. ऐसे में सेंटर ट्रांसफर होने से प्रदर्शन प्रभावित होगा.

Manoj Kumar | News18 Jharkhand
Updated: July 19, 2019, 2:14 PM IST
इस वजह से अधर में लटका झारखंड की 12 होनहार महिला खिलाड़ियों का भविष्य
रांची से वॉलीबॉल सेंटर हटाने के फैसले से 12 महिला खिलाड़ियों का भविष्य अधर में लटक गया है.
Manoj Kumar
Manoj Kumar | News18 Jharkhand
Updated: July 19, 2019, 2:14 PM IST
भारतीय खेल प्राधिकरण के एक फरमान से झारखंड की 12 होनहार महिला वॉलीबॉल खिलाड़ियों का भविष्य अधर में लटक गया है. ये सभी पिछले दो साल से रांची के वॉलीबॉल सेंटर में ट्रेनिंग ले रही हैं. लेकिन अब प्राधिकरण ने इस सेंटर को हजारीबाग स्थानांतरित करने का आदेश दिया है. इससे यहां की खिलाड़ियों में निराशा छा गई है. हालांकि राज्य सरकार के मंत्री सीपी सिंह ने केन्द्रीय खेल मंत्री को पत्र लिखकर सेंटर को रांची में ही रहने देने की मांग की है.

सेंटर ट्रांसफर के फैसले पर निराशा

महिला खिलाड़ियों का कहना है कि प्राधिकरण के इस निर्णय से दो साल की उनकी मेहनत बर्बाद हो जाएगी. पदक जीतने का उनका सपना अधूरा रह जाएगा. साथ ही पढ़ाई- लिखाई भी प्रभावित होगी.

इन खिलाड़ियों की माने तो सेंटर ट्रांसफर करने का यह निर्णय गलत समय में लिया गया है. अगले एक-दो माह में कई राष्ट्रीय- अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताएं आयोजित होंगी. उनमें उन्हें शिरकत करना है. ऐसे में सेंटर ट्रांसफर होने से प्रदर्शन प्रभावित होगा.

रांची के मोरहाबादी स्थित वॉलीबॉल प्रशिक्षण केन्द्र


मंत्री ने लिखा पत्र 

प्राधिकरण के इस फैसले पर राज्य सरकार के मंत्री संपी सिंह को भी आपत्ति है. उन्होंने इस सिलसिले में केंद्रीय खेल मंत्री और राज्यसभा के उपसभापति को पत्र लिखा है. मंत्री ने रांची सेंटर के स्थानांतरण से होने वाले नुकसान की जानकारी पत्र के जरिये दी है. साथ ही इसको रोकने की मांग की है.
Loading...

कई बेहतरीन खिलाड़ी यहां से निकलीं

साल 1999- 2000 में रांची के मोरहाबादी में यह सेंटर स्थापित हुआ था. यहां से देश को कई बेहतरीन महिला वॉलीबॉल खिलाड़ी मिले. 19 सालों में 150 से अधिक महिला खिलाड़ियों को प्रशिक्षण मिला. इनमें से ज्यादा जनजातीय समुदाय से आने वाली बच्चियां रही हैं. यहां से निकलकर संगीता टोप्पो भारतीय महिला वॉलीबॉल टीम की हिस्सा बनीं.

ये भी पढ़ें- झारखंड: शिवराज सिंह चौहान के सामने 400 खिलाड़ी होंगे बीजेपी में शामिल

झारखंड HC से राज्य सरकार को बड़ा झटका, हटाये गये 42 दारोगा होंगे बहाल
First published: July 19, 2019, 2:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...