ट्यूशन जाने के दौरान नाले में गिरी बच्ची, 8 किमी दूर नदी में मिला शव

फलक पड़ोस के दो बच्चों के साथ ट्यूशन के लिए निकली थी. लेकिन घर से महज 200 मीटर जाने पर उसका पैर फिसल गया. और वह पानी से भरे नाले में गिर गई. बाद में 8 किमी दूर दो नदियों के संगम स्थल पर उसकी लाश मिली.

News18 Jharkhand
Updated: July 25, 2019, 9:32 AM IST
ट्यूशन जाने के दौरान नाले में गिरी बच्ची, 8 किमी दूर नदी में मिला शव
ट्यूशन जाने के दौरान नाले में गिरकर बच्ची की मौत
News18 Jharkhand
Updated: July 25, 2019, 9:32 AM IST
रांची के हिंदपीढ़ी इलाके में ट्यूशन जाने के दौरान एक बच्ची नाले में गिर गई. घटना के ढाई घंटे बाद उसकी लाश 8 किमी दूर नदी में मिली. नाला खुला हुआ था और पानी से लबालब था. इसलिए इसमें गिरते ही बच्ची तेजी से बह गई, जबतक लोग बचाने का प्रयास करते, वह दूर जा चुकी थी. बाद में काफी खोजबीन के बाद बच्ची की लाश चुटिया इलाके में स्वर्णरेखा और हरमू नदी के संगम पर मिली.

पैर फिसलने से नाले में गिरी बच्ची

दरअसल बुधवार दोपहर दो बजे फलक पड़ोस के दो बच्चों के साथ ट्यूशन के लिए निकली थी. लेकिन घर से महज 200 मीटर जाने पर उसका पैर फिसल गया. और वह पानी से भरे नाले में गिर गई. आसपास के लोगों ने उसे गिरते हुए देखा और बचाने का भी प्रयास किया. लेकिन पानी के तेज बहाव के चलते वह तेजी से बह गई. बचाने का प्रयास नाकाम साबित हुआ. बाद में घटनास्थल से 8 किमी दूर चुटिया इलाके में स्वर्णरेखा और हरमू नदी के संगम पर उसकी लाश शाम 5 बजे मिली.

child, drain, death
लापरवाही का शिकार हुई मासूम फलक


लोगों के गुस्से के शिकार हुए डिप्टी मेयर 

शव मिलने के बाद पिता और मोहल्ले के लोग उसे गुरुनानक अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया. इसके बाद अस्पताल में हंगामा मच गया. हादसे की सूचना पर मोहल्ला पहुंचे डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय को लोगों ने खूब खरी-खोटी सुनाई. नाला खुला होने को लेकर लोगों ने सवाल उठाये. इस पर डिप्टी मेयर ने स्थानीय वार्ड पार्षद से इसके बारे में जानकारी लेने की बात कही. लोगों में गुस्सा इस बात को लेकर भी था कि घटना के काफी देर बाद पुलिस मौके पर पहुंची.

डिप्टी मेयर ने कहा कि इस हादसे से निगम को सबक सीखने की जरूरत है, ताकि भविष्य में इस तरह की
Loading...

घटना ना हो. उन्होंने बताया कि हिंदपीढ़ी इलाके के लिए 55 लाख का आवंटन हुआ था, बावजूद इसके नालों को स्लैब से नहीं ढका गया. घटना के बाद एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर नहीं पहुंची. स्थानीय युवकों ने बच्ची को ढूंढ़ा.

घटना के वक्त मां घर नहीं थी

फलक मेन रोड के मल्लाह टोली स्थित केबी एकेडमी की छात्रा थी. वह केजी में पढ़ती थी. पिता पेश से ऑटो चालक हैं. घटना के वक्त मां घर पर नहीं थी. वह रांची से बाहर गई हुई थी. घटना की सूचना देकर मां को रांची बुलाया गया.

(रिपोर्ट- ओमप्रकाश और मनोज)

ये भी पढ़ें- दुमका में रोड एक्सीडेंट में 3 कांवरियों की मौत 5 घायल, सभी बिहार के पूर्णिया के रहने वाले

झारखंड में वज्रपात का कहर, दो दिनों में 24 लोगों की मौत
First published: July 25, 2019, 8:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...