होम /न्यूज /झारखंड /गीता कोड़ा: भ्रष्टाचार के मामले में पति मधु कोड़ा के जेल जाने पर सियासत में रखा कदम

गीता कोड़ा: भ्रष्टाचार के मामले में पति मधु कोड़ा के जेल जाने पर सियासत में रखा कदम

गीता कोड़ा

गीता कोड़ा

गीता कोड़ा फिलहाल पश्चिमी सिंहभूम के जगन्नाथपुर विधानसभा सीट से विधायक हैं. यहां से वह लगातार दूसरी बार 2014 में विधायक ...अधिक पढ़ें

    क्या गीता कोड़ा विधायक से सांसद बन पाएंगी? इस सवाल का जवाब रविवार यानी 23 मई को सामने आ जाएगा. गीता कोड़ा लगातार दूसरी बार सिंहभूम सीट पर लोकसभा चुनाव लड़ी हैं. इस बार भी उनका मुकाबला प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा से रहा. पिछली बार वह गिलुवा से हार गई थीं. उससे पहले उनके पति और पूर्व सीएम मधु कोड़ा 2009 में यहां से सांसद बने थे. ऐेसे में क्या गीता कोड़ा इस बार पति की इस सीट को वापस ले पाएंगी, उनके सामने ये बड़ी चुनौती है.

    लगातार दो बार रही हैं विधायक

    सिंहभूम सीट पर इस बार गीता कोड़ा कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर मैदान में हैं. लेकिन पिछली बार वह अपने पति मधु कोड़ा की पार्टी जय भारत समानता के टिकट पर चुनावी दंगल में थीं. गीता कोड़ा फिलहाल पश्चिमी सिंहभूम के जगन्नाथपुर विधानसभा सीट से विधायक हैं. यहां से वह लगातार दूसरी बार 2014 में विधायक चुनी गईं. 2009 में वह जय भारत समानता पार्टी से चुनाव लड़कर पहली बार झारखंड विधानसभा पहुंचीं. उनके नाम सूबे में सबसे कम उम्र में विधायक बनने का रिकॉर्ड है. उस वक्त उनकी उम्र मात्र 25 वर्ष थी. गीता कोड़ा झारखंड विधानसभा में प्रखर विधायक की भूमिका निभाती रही हैं. वह स्थायी समितियों की सदस्य और सभापति भी रह चुकी हैं.

    कांग्रेस का दामन थामतीं गीता कोड़ा


    राहुल गांधी की मौजूदगी में थामा कांग्रेस का दामन  

    गीता कोड़ा अक्टूबर 2018 में दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हुईं. इस दौरान झारखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार भी उपस्थित रहे. लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने उन्हें सिंहभूम सीट से मैदान में उतारा.

    पति मधु कोड़ा के साथ गीता कोड़ा


    पति के जेल जाने के चलते सियासत में आईं 

    गीता कोड़ा का जन्म 26 सितंबर 1983 को हुआ. उन्होंने इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई की है. मधु कोड़ा से शादी करने के बाद वह काफी समय तक एक गृहणी बनकर ही रहीं. लेकिन 2009 में जब मधु कोड़ा को भ्रष्टाचार के मामले में जेल जाना पड़ा, तब गीता कोड़ा ने राजनीति में कदम रखा.

    शुरुआत में मधु कोड़ा से ठीक नहीं रहे रिश्ते 

    भले ही आज गीता कोड़ा को पूर्व सीएम मधु कोड़ा की राजनीतिक उत्तराधिकारी कहा जाता हो, लेकिन एक वक्त ऐसा भी था, जब गीता कोड़ा ने मधु कोड़ा का साथ छोड़ दिया था. मुख्यमंत्री बनने से पहले मधु कोड़ा और गीता कोड़ा के संबंध ठीक नहीं थे. लेकिन सीएम बनने के बाद उनके संबंधों में सुधार आया. गीता कोड़ा शादी के कुछ माह बाद मधु कोड़ा से अलग रहने लगीं थी. वह अपने पुरुष मित्र के लिए मंत्री रहे मधु कोड़ा को छोड़ चुकी थीं. लेकिन लगभग दो साल बाद गीता कोड़ा वापस मधु कोड़ा की पत्नी बनीं. गीता कोड़ा की शादी साल 2005 में मधु कोड़ा से हुई थी. उस वक्त मधु कोड़ा अर्जुन मुंडा की सरकार में खनन मंत्री थे.

    खेती करते पूर्व सीएम मधु कोड़ा


    निर्दलीय होते हुए मधु कोड़ा बने सीएम

    14 सितंबर, 2006 को मधु कोड़ा झारखंड के मुख्यमंत्री बने. वह 23 अगस्त, 2008 तक झारखंड के सीएम पद पर बने रहे. आय से अधिक संपत्ति समेत कई मामले में मधु कोड़ा फिलहाल अदालत का चक्कर लगा रहे हैं. वह जेल भी जा चुके हैं. मधु कोड़ा झारखंड के पहले ऐसे मुख्यमंत्री रहे, जो निर्दलीय विधायक होते हुए सीएम बने.

    ये भी पढ़ें- लक्ष्मण गिलुवा: 25 साल के संघर्ष में जिला परिषद सदस्य से बने प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष

    सुबोधकांत सहाय: 2009 में रांची सीट जीतकर कांग्रेस की बचाई थी लाज

    केन्द्रीय मंत्री सुदर्शन भगत: पांचजन्य पत्रिका बांटते- बांटते किया सियासत का रूख

    कांटा इंचार्ज से मंत्री, ऐसा रहा है आजसू उम्मीदवार चंद्रप्रकाश चौधरी का सियासी सफर

    विद्युतवरण महतो: झारखंड आंदोलन के लिए छोड़ दी पढ़ाई, 10 साल संघर्ष के बाद मिली पहली चुनावी जीत

    संतालियों के लिए संघर्ष से सीएम बनने तक, शिबू सोरेन ऐसे कहलाए दिशोम गुरु

     

    Tags: Jharkhand Lok Sabha Elections 2019, Singhbhum S27p10

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें