ग्लोबल स्किल समिट: 1 लाख नौकरी देकर झारखंड ने रचा इतिहास, CM बोले- पूरा हुआ PM का सपना

झारखंड की राजधानी रांची के खेलगांव में आयोजित ग्लोबल स्किल समिट में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि कौशल विकास के क्षेत्र में झारखंड ने इतिहास रच दिया है. सूबे के युवा कौशल विकास केंद्र से प्रशिक्षण प्राप्त करें, नौकरी आपका इंतजार कर रही है.

News18 Jharkhand
Updated: January 11, 2019, 12:16 AM IST
ग्लोबल स्किल समिट: 1 लाख नौकरी देकर झारखंड ने रचा इतिहास, CM बोले- पूरा हुआ PM का सपना
ग्लोबल स्किल समिट-2019 का आयोजन
News18 Jharkhand
Updated: January 11, 2019, 12:16 AM IST
झारखंड की राजधानी रांची के खेलगांव में गुरुवार को ग्लोबल स्किल समिट का आयोजन किया गया था. इस दौरान राज्य सरकार की ओर से एक लाख युवाओं को नौकरी दी गई. बीआईटी सिंदरी के छात्र बाल्या सोरेन को सबसे ज्यादा 11 लाख रुपये के सालाना पैकेज की नौकरी टाटा स्टील में मिली. कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने सांकेतिक रूप से 10 युवाओं को नियुक्ति पत्र बांटे.

इससे पहले सीएम रघुवर दास के समिट का उद्घाटन किया. उन्होंने छह कौशल विकास केंद्रों का शिलान्यास भी किया. ये केन्द्र कोडरमा, पलामू, जामताड़ा और लोहरदगा में खोले जाएंगे. दो केन्द्र रांची में स्थापित होंगे. समिट के दौरान आठ एमओयू भी साइन किए गए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि कौशल विकास के क्षेत्र में झारखंड ने इतिहास रच दिया है. आजादी के 70 वर्ष तक देश में युवा शक्ति को राजनीतिक पार्टियों ने झंडा ढोने के लिए इस्तेमाल किया, लेकिन मोदी सरकार ने युवाओं के बारे में सोचा और टीम झारखंड के कारण पीएम का सपना पूरा हुआ. सीएम ने अपील करते हुए कहा कि सूबे के युवा कौशल विकास केन्द्र से प्रशिक्षण प्राप्त करें, नौकरी आपका इंतजार कर रही है.



मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले दस साल में झारखंड दुनिया के विकसित राष्ट्रों की बराबरी करेगा. बतौर सीएम रघुवर दास ने साल 2017 में मोमेंटम झारखंड, 2018 में स्किल समिट और दो महीने पहले एग्रीकल्चर एंड फूड समिट का आयोजन कराया. अब राज्य सरकार की कोशिश है कि जो भी उद्योग यहां लगे, उन्हें कुशल कारीगर यहीं से मिल जाएं. मुख्यमंत्री ने कहा कि हम आदिवासी, जनजाति और पिछड़ों के बच्चों को कुशल बना रहे हैं. इसके बाद वे दुनिया में अपनी और झारखंड की अलग पहचान बनाएंगे.

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि झारखंड में विश्व की अर्थव्यवस्था को संभालने की शक्ति है. उन्होंने इस समिट को युवा कुंभ करारा दिया. केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि आजादी के 70 साल बाद मोदी सरकार ने गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था की है. अब लोग पूछ रहे हैं कि नौकरी कहां है, जो आप आरक्षण देंगे. बतौर प्रधान रांची का ये ग्लोबल समिट उन प्रश्नों का जवाब है. प्रधान ने कहा कि कृषि, खनन, उद्योग, निर्माण और पर्यटन से जुड़ी मांगों को झारखंड के ही युवा पूरा कर सकते हैं.

समिट में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, केंद्रीय राज्यमंत्री जयंत सिन्हा और सुदर्शन भगत भी शामिल हुए. साथ ही 17 देशों के प्रतिनिधियों ने भी हिस्सा लिया. अभिनेत्री महिमा चौधरी, क्रिकेट कमेंटेटर चारू शर्मा, पूर्व टेस्ट क्रिकेटर चेतन शर्मा और टीवी एंकर रोहित राव ने भी नौजवानों का उत्‍साह बढ़ाया.
Loading...

इनपुट- अजयलाल व राजेश कुमार

ये भी पढ़ें- ग्लोबल स्किल समिट: गरीबी से लड़कर बाल्या सोरेन ने पाई 11 लाख के पैकेज की नौकरी

ग्लोबल स्किल समिट: एक लाख युवाओं को रोजगार देकर रिकॉर्ड कायम करेगी रघुवर सरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 10, 2019, 7:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...