स्टूडेंट्स के लिए खुशखबरी : बगैर परीक्षा के प्रमोट करेगी रांची यूनिवर्सिटी, मगर कैसे?

कोरोना के चलते विश्वविद्यालय परीक्षाओं को लेकर रणनीति बना रहे हैं.

कोरोना के चलते विश्वविद्यालय परीक्षाओं को लेकर रणनीति बना रहे हैं.

jharkhand News : Covid-19 की सेकंड वेव के प्रकोप के चलते इस बार एग्ज़ाम न लेते हुए पौने दो लाख से ज़्यादा छात्रों को अगले सेमेस्टर में भेज दिया जाएगा. कई विश्वविद्यालय परीक्षाओं को लेकर अपने ढंग से कदम उठा रहे हैं.

  • Share this:

रांची. इस साल महामारी के असर को देखते हुए रांची यूनिवर्सिटी ने एक महत्वपूर्ण फैसला किया है. सभी छात्रों को बगैर परीक्षा लिये ही अगले सेमेस्टर में प्रमोट कर दिया जाएगा. अब किसे कितने अंकों के साथ प्रमोट किया जाएगा? इसका मूल्यांकन इस आधार पर किया जाएगा कि मिड सेमेस्टर परीक्षा और प्रैक्टिकल एग्ज़ाम में उसे कितने मार्क्स मिले थे. हालांकि रांची विश्वविद्यालय के इस फैसले के दायरे में फाइनल इयर के स्टूडेंट नहीं आएंगे.

झारखंड ही नहीं, बल्कि देश भर में कोविड-19 का कहर जारी है इसलिए रांची यूनिवर्सिटी ने यह कदम उठाया है. इस फैसले के बाद यूनिवर्सिटी में ग्रैजुएशन और पोस्ट ग्रैजुएशन के करीब 1.9 लाख छात्रों को सीधे अगले सेमेस्टर में प्रवेश मिल जाएगा. यूनिवर्सिटी प्रशासन ने सभी विभागों से छात्रों के मिड सेमेस्टर और प्रैक्टिकल परीक्षाओं के नतीजे सबमिट करने के आदेश दिए हैं.

ये भी पढ़ें : दिल्ली यूनिवर्सिटी में कोरोना का तांडव, अब तक 30 से ज्‍यादा टीचर्स की मौत

jharkhand news, jharkhand university, ranchi university exam, ranchi news, झारखंड समाचार, झारखंड यूनिवर्सिटी, रांची यूनिवर्सिटी एग्ज़ाम, रांची न्यूज़
रांची विश्वविद्यालय ने छात्रों को अगले सेमेस्टर में प्रमोट करने का फैसला किया.

कब तक आएंगे नतीजे?

इस फैसले के बाद अब सवाल यह खड़ा हुआ है कि इस प्रक्रिया से छात्रों के अगले सेमेस्टर में प्रवेश की घोषणा और उनके मार्क्स का खुलासा कब तक होगा. इस बारे में बताया जा रहा है कि पहले पोस्ट ग्रैजुएट छात्रों के नतीजे बताए जाएंगे. कुछ विभागों ने प्रशासन के पास छात्रों के पिछले अंकों का ब्योरा भेज दिया है. अभी तारीख तय नहीं है लेकि कहा जा रहा है कि जल्द ही नतीजे आ सकते हैं और ये यूजीसी की गाइडलाइन के अनुसार ही तय होंगे.

अन्य यूनिवर्सिटियों का क्या है स्टैंड?



रांची यूनिवर्सिटी के इस कदम के उलट डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी ऑनलाइन एग्ज़ाम कराने की तैयारी में है. ग्रैजुएशन व पीजी के डिग्री कोर्सों में एनरोल करीब 10,000 छात्रों के लिए होने जा रहे ऑनलाइन इम्तिहान का समय दो घंटे का रखा जाना तय कर लिया गया है.

ये भी पढ़ें : झारखंड पुलिस ने लोगों को सड़क पर मुर्गा और मेंढक बनाकर लगवाई जम्प

गौरतलब है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के मद्देनज़र कुछ कॉलेजों और विश्वविद्यालयों ने रांची विवि की तर्ज़ पर ही स्टूडेंट्स को प्रमोट करने का फैसला किया है, तो कुछ ऑनलाइन परीक्षा के पक्ष में हैं, वहीं कुछ ने परीक्षाएं टाल देने का फैसला किया है. उदाहरण के तौर पर इलाहाबाद यूनिवर्सिटी ने कुछ कोर्सों में छात्रों को प्रमोट करने तो कुछ कोर्सों में परीक्षा टाल देने का फैसला किया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज