• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • RANCHI GOVERNMENT WILL NOT LEAVE JHARKHAND AS THE LEADING STATE IN AGRICULTURE RAGHUVARDAS

झारखंड को कृषि में अग्रणी राज्य बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी सरकार : रघुवरदास

रांची में कृषि समागम का उद्घाटन करते मुख्यमंत्री रघुवर दास

झारखंड में 29 और 30 नवंबर 2018 को होनेवाले ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फ़ूड समिट की तैयारियों को लेकर रांची में कृषि समागम का शनिवार को आयोजन किया गया. इस कृषि समागम में कृषि विभाग से जुड़े अधिकारी और इजरायल से कृषि की तकनीक सीखकर लौटे किसान भी शामिल हुए.

  • Share this:
झारखंड में 29 और 30 नवंबर 2018 को होने वाले ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फ़ूड समिट की तैयारियों को लेकर रांची में कृषि समागम का शनिवार को आयोजन किया गया. इस कृषि समागम में कृषि विभाग से जुड़े अधिकारी और इजरायल से कृषि की तकनीक सीखकर लौटे किसान भी शामिल हुए. कृषि समागम में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने एक बार फिर एलान किया कि झारखंड को कृषि में अग्रणी राज्य बनाने में राज्य सरकार कोई कोर कसर नहीं छोडे़गी. इसके लिए सरकार अगले वर्ष 28 लाख किसानों को स्मार्ट फोन मुहैया कराएगी. इसके अलावा झारखंड के किसान E-NAM से जुड़ेंगे.

मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि सरकार राज्य में सुखाड़ की स्थिति से निपटने के लिए तैयार है. सरकार फसल बीमा के लिए ट्रस्ट भी बनाएगी, साथ ही फसल बीमा के लिए इंश्योरेंस कंपनियों पर निर्भरता खत्म की जाएगी. सीएम ने कहा कि इजरायल से लौटे किसान मास्टर ट्रेनर बनेंगे और अपने साथी किसानों को नई तकनीक की जानकारी देंगे. उन्होंने कहा कि सरकार ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है.

कृषि समागम में सीएम ने साफ कर दिया है कि कृषि में बिचौलियों और भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. राज्य के मुख्य सचिव ने कहा कि झारखंड में कृषि क्षेत्र में विकास की अपार संभावनाएं हैं. उन्होंने कहा कि किसी भी परिवर्तन की शुरुआत सोच से होती है और झारखंड के किसान अब विकसित राज्यों से कृषि क्षेत्र में बराबरी करने के लिए ऊंची छलांग लगाने को तैयार हैं. कृषि सचिव ने कहा कि फ़ूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में झारखंड हब बनेगा.

यह भी पढ़ें - लालू की बढ़ी ब्लड शुगर,तेजप्रताप के तलाक लेने के फैसले के बाद बिगड़ी थी तबीयत

यह भी पढ़ें -प्रधानमंत्री की इस योजना का लाभ लेने भारी संख्या में रिम्स पहुंच रहे हैं लोग
First published: