• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • Dhanbad Judge Murder: झारखंड हाईकोर्ट सख्त, 'कोताही हुई तो केस की जांच CBI को सौंपेंगे'

Dhanbad Judge Murder: झारखंड हाईकोर्ट सख्त, 'कोताही हुई तो केस की जांच CBI को सौंपेंगे'

रांची हाईकोर्ट ने धनबाद के जज की मौत के मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए कहा है कि अगर जांच में लापरवाही हुई तो केस सीबीआई को दे दिया जाएगा.

रांची हाईकोर्ट ने धनबाद के जज की मौत के मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए कहा है कि अगर जांच में लापरवाही हुई तो केस सीबीआई को दे दिया जाएगा.

Judge Death Case: हाई कोर्ट ने DGP को इस मामले में त्वरित कार्रवाई करने के आदेश दिये हैं. कोर्ट ने कहा है कि हम खुद इस केस की मॉनिटरिंग करेंगे. और कोताही बरतने पर केस सीबीआई को सौंप दिया जाएगा.

  • Share this:

रांची. झारखंड के धनबाद में जज उत्तम आनंद की ऑटो से टक्कर मारकर संदिग्ध मौत का मामला अब सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुका है. झारखंड हाईकोर्ट ने भी गुरुवार को हुई सुनवाई में राज्य में लॉ एंड ऑर्डर की व्यवस्था पर कड़ी टिप्पणी की. धनबाद के जिला न्यायाधीश के पत्र पर संज्ञान लेते हुए हाईकोर्ट ने कड़ी मौखिक टिप्पणी करते हुए कहा कि अब तक नक्सलियों ने भी कभी जजों को निशाना नहीं बनाया.. लेकिन अब अपराधी न्यायिक व्यवस्था को निशाना बना रहे हैं.

हाईकोर्ट ने आज डीजीपी और धनबाद के एसएसपी को कोर्ट में तलब किया. और इस मामले में प्राथमिकी देर से दर्ज करने पर अपनी नाराजगी जाहिर की. कोर्ट ने डीजीपी को इस मामले में त्वरित कार्रवाई करने का आदेश दिया और कहा कि हाईकोर्ट खुद इस केस की मॉनिटरिंग करेगा. और कोताही बरतने पर मामला सीबीआई को सौंप दिया जाएगा.

हाईकोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि राज्य में एक के बाद एक घटनाएं सामने आ रही हैं. पहले साहिबगंज में पुलिस पदाधिकारी की संदिग्ध मौत, फिर रांची के तमाड़ में वकील की हत्या और अब धनबाद में जज उत्तम आनंद को निशाना बनाया जाना. यह सब साबित करता है कि राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति सही नहीं है. हालांकि राज्य सरकार का पक्ष रखते हुए महाधिवक्ता ने कहा कि सरकार इस मामले में गंभीर है और पूरे मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है. उन्होंने कोर्ट को जानकारी देते हुए बताया कि मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है. और वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी संजय लाटकर इस टीम का प्रतिनिधित्व करेंगे.

जज का परिवार सकते में 

उधर, जज उत्तम आनंद का पूरा परिवार इस हादसे के बाद सकते में है.  उनके भाई सुमन आनंद ने इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है. साथ ही कहा कि सीसीटीवी फुटेज देखने पर साफ पता चलता है यह एक सुनियोजित हत्या है. दरअसल जज उत्तम आनंद धनबाद के चर्चित रंजय सिंह हत्याकांड की सुनवाई कर रहे थे. रंजय सिंह झरिया के पूर्व विधायक संजीव सिंह के करीबी थे. जज उत्तम आनंद अपने फैसले को लेकर काफी सख्त माने जाते थे. फिलहाल इस पूरे मामले की जांच सभी बिंदुओं को जोड़कर की जा रही है. इस घटना में चोरी की ऑटो से टक्कर और रंजय सिंह हत्याकांड मामले की सुनवाई समेत तमाम कनेक्शन को जोड़कर खंगाला जा रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज