चौतरफा विरोध के आगे झुकी हेमंत सरकार, छठ को लेकर गाइडलाइन में दी छूट

सीएम हेमंत सोरेन ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए अभी भी लोगों से घरों में ही छठ मनाने की अपील की.
सीएम हेमंत सोरेन ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए अभी भी लोगों से घरों में ही छठ मनाने की अपील की.

सीएम हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने कहा कि छठ (Chhath) को लेकर जारी गाइडलाइंस पर बीजेपी राजनीति कर रही है. राजनीतिक रंग देने का प्रयास किया जा रहा है.

  • Share this:
रांची. महापर्व छठ (Chhath) को लेकर सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस में सीएम हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने छूट देने की बात कही है. प्रोजेक्ट बिल्डिंग में मीडिया से बात करते हुए हेमंत सोरेन ने कहा कि नदी घाटों पर लोग सोशल डिस्टेंसिंग के साथ छठ मना सकते हैं. हालांकि मुख्यमंत्री ने आमलोगों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण (Corona Infection) को देखते हुए इस बार लोग अपने घरों में ही छठ मनाएं.

सीएम ने कहा कि संक्रमण अभी कम नहीं हुआ है लिहाजा लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की गाइडलाइंस केंद्र सरकार की भावनाओं के अनुरूप ही जारी की गई हैं. मुख्यमंत्री ने पीएम मोदी की अपील का हवाला देते हुए कहा कि जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं का फार्मूला राज्य सरकार अपने प्रदेश में लागू करेगी.

हेमंत सोरेन ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी 'दो गज दूरी बहुत जरूरी की' बात करते हैं. केंद्र सरकार की इसी भावनाओं को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार लगातार काम कर रही है. उन्होंने विपक्षी बीजेपी पर इस पूरे मामले को राजनीतिक रंग देने का आरोप लगाया.



सीएम ने कहा कि छठ को लेकर जारी गाइडलाइंस पर बीजेपी राजनीति कर रही है. इस पूरे मामले को राजनीतिक रंग देने का प्रयास किया जा रहा है.
वहीं सरकार के बैकफुट पर जाने पर बीजेपी, रांची जिला छठ समिति और महावीर मंडल समिति के सदस्यों ने राजधानी रांची के मुख्य चौराहे अल्बर्ट एक्का चौक पर जश्न मनाया. बीजेपी ने कहा कि विपक्ष के दबाव के सामने आखिरकार राज्य सरकार को झुकना पड़ा. छठ को लेकर गाइडलाइंस में छूट देनी पड़ी.

बता दें कि पहले राज्य सरकार ने गाइडलाइन जारी कर नदी या तालाब घाटों पर छठ मनाने पर रोक लगा दी थी. ऐसा कोरोना संक्रमण को देखते हुए किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज