• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • झारखंड: हर साल 10 गरीब मेधावी छात्रों को पढ़ाई के लिए विदेश भेजेगी हेमंत सरकार, शुरू की ये खास योजना

झारखंड: हर साल 10 गरीब मेधावी छात्रों को पढ़ाई के लिए विदेश भेजेगी हेमंत सरकार, शुरू की ये खास योजना

झारखंड में मरंग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृति योजना के तहत 6 छात्रों को विदेश पढ़ाई के लिए भेजा जाएगा.

झारखंड में मरंग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृति योजना के तहत 6 छात्रों को विदेश पढ़ाई के लिए भेजा जाएगा.

Jharkhand News: मरंग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृति योजना-2021 के तहत सरकार हर साल 10 छात्रों का चयन कर विदेश पढ़ाई के लिए भेजेगी. इस सत्र में अभी और 4 छात्रों का चयन होना है. फिलहाल 6 छात्रों को विदेश भेजा जाएगा.

  • Share this:

रांची. झारखंड में मरंग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृति योजना-2021 की शुरुआत हो गई है. योजना के पहले चरण में अनुसूचित जनजाति के 6 छात्रों का चयन किया गया है. राज्य सरकार की तरफ से इन 6 होनहार आदिवासी युवाओं को पढ़ाई के लिए यूनाइटेड किंगडम भेजा जा रहा है. झारखंड मंत्रालय में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने इस योजना का विधिवत शुभारंभ करते हुए कहा कि अगले चरण में समाज के दूसरे वर्गो के छात्रों को भी मौका दिया जाएगा.

झारखंड के बच्चों को अब पैसों के अभाव में विदेश में पढ़ाई का सपना चकनाचूर नहीं होगा. राज्य की हेमंत सोरेन सरकार ने मरंग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृति योजना-2021 की शुरुआत करते हुए इस सपने को साकार करने की दिशा में पहला कदम बढ़ा दिया है.

झारखंड मंत्रालय में इस योजना के शुभारंभ के मौके पर सूबे के कल्याण मंत्री चंपई सोरेन भावुक हो गए. उन्होंने अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए कहा कि मैंने बोरा पर बैठकर पढ़ाई की. आज जब उनकी कलम से झारखंड के बच्चे प्लेन से शिक्षा के लिये विदेश जा रहे हैं, तो उन्हें गौरव महसूस हो रहा है. ये एक ऐतिहासिक दिन से कम नहीं.

झारखंड के बच्चों को विदेश पढ़ाई के लिए भेजने का ड्रीम प्रोजेक्ट राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का है. योजना के शुभारंभ के मौके पर हेमंत सोरेन ने आदिवासी दिवस के एक वाकये का जिक्र करते हुए कहा कि उसी दिन इस योजना का ख्याल मन में आया था. आज यह सपना साकार हो रहा है. राज्य में आर्थिक- सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़ने वाले समाज के बच्चों के लिये ये योजना है. अब मेधावी बच्चे पैसों के अभाव में विदेशों में जाकर उच्च शिक्षा प्राप्त करने से वंचित नहीं रहेंगे, बल्कि आने वाले समय में छात्रों की संख्या बढ़ाने और समाज के दूसरे वर्ग के बच्चों को भी मौका दिया जाएगा.

योजना के तहत सरकार ने हर साल 10 छात्रों के चयन का निर्णय लिया है. यानी इसी सत्र में अभी और 4 छात्रों का चयन होना है. फिलहाल 6 छात्रों को विदेश भेजा जाएगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज