हेमंत सोरेन का केन्द्र पर तंज- किसानों के दर्द को वही समझ सकता है, जिन्हें पैसे से नहीं मिट्टी से प्यार है

किसानों के भारत बंद का झारखंड में सत्ताधारी दलों ने समर्थन किया है.

किसानों के भारत बंद का झारखंड में सत्ताधारी दलों ने समर्थन किया है.

सीएम हेमंत सोरेन (CM Hemant Soren) ने केन्द्र पर तंज कसते हुए कहा कि देश की रीढ़ की हड्डी कहे जाने वाले किसान (Farmers) आंदोलन पर हैं, जबकि केंद्र सरकार लगातार इन्हें बहलाने-फुसलाने में जुटी हुई है.

  • Share this:

रिपोर्ट- अविनाश कुमार 

रांची. किसानों (Farmers) के मुद्दे पर एक बार फिर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने केन्द्र की मोदी सरकार (Modi Government) पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि देश की रीढ़ की हड्डी कहे जाने वाले किसान आंदोलनरत है, जबकि केंद्र सरकार लगातार इन्हें बहलाने-फुसलाने में जुटी हुई है. भारत कृषि प्रधान देश है, इसलिए प्रत्येक नागरिक को आज किसान के साथ खड़ा होना चाहिए.

सीएम ने कहा कि नित नए- नए कानूनों का खामियाजा पूरा देश भुगत रहा है. ये दुखद स्थिति है. ऐसे हालातों के खिलाफ समय- समय पर देश की जनता सड़कों पर उतरी है. फिलहाल शांतिप्रिय किसान सड़कों पर हैं. इनके दर्द को वही समझ सकता है जिन्हें मिट्टी से प्यार है, पैसे से प्यार करने वालों को किसानों का दर्द समझ में नहीं आएगा.

कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने भी केन्द्र पर हमला बोलते हुए कहा कि कृषि कानून किसानों के लिए डेथ वारंट जैसा है. इससे किसान आने वाले समय में मालिक से मजदूर हो जाएंगे. उन्होंने ऐलान किया कि भारत बंद को सफल बनाने के लिए कल कांग्रेस के नेता-कार्यकर्ता राज्यभर में सड़कों पर उतरेंगे. कृषि मंत्री ने जनता से साथ किसानों का साथ देने का आह्वान किया.
बता दें कि किसानों के भारत बंद को समर्थन देने के लिए झारखंड में कल सत्ताधारी कांग्रेस, जेएमएम और आरजेडी के नेता सड़कों पर उतरेंगे. वामदलों ने भी साथ देने का ऐलान किया है. प्रदेश कांग्रेस ने तो भारत बंद को सफल बनाने के लिये अपने जिलाध्यक्षों को पत्र जारी कर नेताओं-कार्यकर्ताओं को बंद में अपनी भागीदारी सुनिश्चित कराने की निर्देश दिया है. जेएमएम के समर्थन का खुद सीएम हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर ऐलान किया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज