हेमंत सरकार का बड़ा फैसला, स्टेम लैब बनेगा बच्चों के सुनहरे भविष्य का आधार; जानिए डिटेल


स्टेम एजुकेशन सिस्टम के तहत स्कूलों के पाठ्यक्रम में पढ़ाए जाने वाले विषय से संबंधित विभिन्न प्रादर्श से लैब को सुसज्जित किया गया है.

स्टेम एजुकेशन सिस्टम के तहत स्कूलों के पाठ्यक्रम में पढ़ाए जाने वाले विषय से संबंधित विभिन्न प्रादर्श से लैब को सुसज्जित किया गया है.

Stem Labs in Jharkhand schools: हेमंत सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में बदलाव के बड़ा फैसला लेते हुए स्टेम लैब्स स्थापित करने का निर्णय लिया है. राजधानी रांची के कुछ प्रखंडों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में स्टेम प्रयोगशालाएं स्थापित की जा रही हैं. स्टेम लैब्स विश्वस्तरीय शिक्षा प्रदान करने में बच्चों के लिए अत्यंत लाभदायक सिद्ध हो सकते हैं.

  • Share this:
रांची. विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित में रुचि रखने वाले सरकारी स्कूलों के नौनिहाल अब अपनी कल्पना को उड़ान दे सकेंगे और इसमें माध्यम बनेंगे स्टेम लैब्स. 21वीं सदी विज्ञान और तकनीक की सदी है. यही वजह है कि छात्रों को विज्ञान, तकनीक तथा गणित की बारीकियों से अवगत कराने तथा क्लास में प्राप्त ज्ञान को वास्तविक जीवन में उतारने के लिए राजधानी रांची के कुछ प्रखंडों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में स्टेम प्रयोगशालाएं स्थापित की जा रही हैं.

परियोजना विशेष रूप से उन बच्चों पर केंद्रित है, जिनकी गणित, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग में गहरी रुचि है. झारखण्ड के सरकारी स्कूलों को मॉडल स्कूल बनाने के लक्ष्य को परिलक्षित करने की दिशा में सरकार का यह दूसरा बड़ा कदम है. सरकार का मानना है कि परियोजना से न सिर्फ सरकारी स्कूलों की पढ़ाई को नई दिशा मिलेगी, बल्कि छात्रों के लिए यह अपनी सोच को आकार देने में भी सहायक होगा. यह लैब संबंधित प्रखंडों के सभी सरकारी स्कूलों के छात्र-छात्राओं के लिए होगी. प्रोजेक्ट के सकारात्मक परिणाम के उपरांत राज्य के सभी प्रखंडों में समान रूप से स्टेम लैब की स्थापना की योजना है.

क्या है स्टेम लैब

स्टेम, एजुकेशन सिस्टम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इस सिस्टम के द्वारा विज्ञान, तकनीक तथा गणित विषय को विद्यार्थियों की योग्यता एवं रुचि के अनुसार रोचक तरीके से सिखाया जाता है. रांची में शुरू किए गए स्टेम लैब्स विश्वस्तरीय शिक्षा प्रदान करने में बच्चों के लिए अत्यंत लाभदायक सिद्ध हो सकते हैं. भारत में पारंपरिक शिक्षा प्रणाली अभी भी पुस्तकों पर केंद्रित है. जबकि, पुस्तकों के अतिरिक्त बच्चों को विषय का व्यावहारिक ज्ञान देना भी आवश्यक है. यही कार्य स्टेम लैब करता है. बच्चों को एक मंच मिलता है, जहां वे अपनी सोच को उकेर सकते हैं.
विश्वस्तरीय शिक्षा की पहल

स्टेम एजुकेशन सिस्टम के तहत स्कूलों के पाठ्यक्रम में पढ़ाए जाने वाले विषय से संबंधित विभिन्न प्रादर्श से लैब को सुसज्जित किया गया है. पिनहोल कैमरा, एलईडी-आधारित हार्ट, आई मॉडल, ईयर मॉडल, इन्फिनिटी वॉल, विभिन्न माध्यमों की ध्वनि, सोलर सिस्टम, हैंड पंप, सौर ऊर्जा प्रणाली, हाइड्रो टर्बाइन, मोटर मॉडल, सेंसर सेटअप, जेनरेटर, न्यूटन के गति के नियम, जैव विविधता, विभिन्न प्रकार के रोबोट, प्रोजेक्टर, टैब, इंटरएक्टिव कम्प्यूटिंग डिवाइस आदि के प्रादर्श लगाये गये हैं, ताकि लैब में स्थापित इनकी मदद से छात्रों को खुद कुछ करने की प्रेरणा मिले और उनके सोचने की क्षमता को विकसित किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज