Ranchi News: आंदोलनकारी होमगार्ड जवानों ने सड़क जाम कर किया जोरदार प्रदर्शन, 18 दिन से दे रहे धरना

पिछले 18 दिन से राज्यभर के होमगार्ड जवान रांची में प्रदर्शन कर रहे हैं.

पिछले 18 दिन से राज्यभर के होमगार्ड जवान रांची में प्रदर्शन कर रहे हैं.

Home guard Jawan Protest: समान काम समान वेतन, बिहार की तर्ज पर 365 दिन काम, निर्धारित भविष्य निधि का लाभ सहित अन्य सुविधाओं की मांग को लेकर होमगार्ड के जवान रांची आंदोलन कर रहे हैं.

  • Share this:
रांची. रांची में गत 8 मार्च से अपनी 4 सूत्री मांगों को लेकर होमगार्ड के जवान (Home guard Jawan) आंदोलनरत हैं. शांतिपूर्ण प्रदर्शन के बाद भी जब सरकार की नींद नहीं खुली तो शुक्रवार को होमगार्ड के जवानों ने जगन्नाथपुर- पुंदाग मुख्य सड़क को जाम कर सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाने का प्रयास किया. झारखंड में करीब 19 हजार होमगार्ड के जवान हैं, जो अपनी ड्यूटी छोड़ कर रांची में प्रदर्शन कर रहे हैं.

प्रदर्शनकारी जवान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को वो वादा याद करा रहे हैं जो उन्होंने इन जवानों से किया था. होमगार्ड जवानों का आरोप है कि सरकार चिर निद्रा में है और उनकी मांगों को लेकर जरा भी विचार नहीं कर रही है. यही वजह है कि आंदोलनस्थल पर इतने दिन धरना देने के बाद भी जवानों से मिलने सरकार का कोई प्रतिनिधि नहीं पहुंचा. मजबूरी में उन्हें आज सड़क जाम करना पड़ा.

समान काम समान वेतन, बिहार के तर्ज पर 365 दिन काम, निर्धारित भविष्य निधि का लाभ सहित अन्य सुविधाओं की मांग को लेकर होमगार्ड के जवान रांची आंदोलन कर रहे हैं.

झारखंड होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन के रवि मुखर्जी ने कहा कि 2019 विधानसभा चुनाव से पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने वादा किया था कि उनकी सरकार बनने पर होमगार्ड जवानों को बिहार की तर्ज पर सुविधाएं दी जाएंगी. लेकिन सरकार बने हुए करीब डेढ़ साल हो चुके हैं, इसके बावजूद इस ओर कभी ध्यान नहीं दिया गया. लगातार आंदोलन करने के बावजूद सरकार की नींद नहीं खुली है.
गढ़वा की महिला जवान पुष्पांजलि देवी का कहना है कि होली का त्योहार सिर पर है. अगर सरकार उनकी मांगों को मान लेती तो वो भी अपने परिवार के साथ होली मनाती. लेकिन जो स्थिति है उसमें लगता है कि उन्हें रांची में रहकर ही काली होली मनानी होगी. वहीं महिला जवान मलिन सिंकू ने बताया कि धरने के दौरान उन्हें खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. धरनास्थल ऐसी जगह है जहां पानी तक नसीब नहीं है. लेकिन अपने बेहतर भविष्य के लिए वो सारा जतन करेंगी. सरकार उनकी मांगों को मान ले तो होली पर बड़ा तोहफा उन्हें मिल जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज