• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • रांची में इसी तरह झमाझम बारिश होती रही तो टूट सकते हैं हटिया डैम के फाटक

रांची में इसी तरह झमाझम बारिश होती रही तो टूट सकते हैं हटिया डैम के फाटक

हटिया डैम का जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच चुका है.

हटिया डैम का जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच चुका है.

Ranchi News: राजधानी रांची में झमाझम बारिश का दौर जारी है. इस वजह से सभी डैम पानी से लबालब हैं. हटिया डैम की बात की जाए, तो इसका जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच गया है. डैम के दो फाटक के ऊपर से पानी बह रहा है.

  • Share this:

रांची. रांची के हटिया डैम (Hatia Dam) का जलस्तर 39 फीट तक पहुंच गया है. इस कारण डैम के फाटक खोलने को लेकर माथापच्ची शुरू हो गई है. हटिया डैम की ये स्थिति करीब 10 वर्षो के बाद बनी है. इससे पहले 2017 में 37 फीट तक जलस्तर पहुंचा था. लेकिन साल 2010 के बाद पहली बार इस बार ऐसा हुआ है कि जलस्तर 39 फीट तक पहुंचा है. डैम के ओवरफ्लो होने की आशंका से अधिकारियों के पसीने छूट रहे हैं, क्योंकि डैम का फाटक पुराने होने के साथ-साथ जर्जर हो चुके हैं. वहीं फाटक के कई पार्ट्स चोरी हो चुके हैं. ऐसे में अगर कुछ दिन और बारिश होती है, तो फाटक के टूटने की आशंका बढ़ जाएगी. बता दें कि फाटक को खोलने का प्रयास पूर्व में भी किया गया था, लेकिन सफलता नहीं मिली थी.

राजधानी रांची में झमाझम बारिश का दौर जारी है. इस वजह से सभी डैम पानी से लबालब हैं. हटिया डैम की बात की जाए, तो इसका जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच गया है. डैम के दो फाटक के ऊपर से पानी बह रहा है. स्थानीय लोग बताते हैं कि डैम की ऐसी स्थिति काफी वर्षों के बाद हुई है. फाटक का हाल इतना खराब है कि इनका खुलना मुश्किल नजर आ रहा है. ऐसे में अगर इसी तरह बारिश का दौर आगे भी जारी रहा तो फाटक टूटने की आशंका बढ़ जाएगी. इससे धुर्वा इलाके में बाढ़ आ सकती है. धुर्वा के लोग भयभीत नजर आ रहे हैं.

अधिकारी कर रहे मंथन

डैम की स्थिति का जायजा लेने पहुंचे पेयजल विभाग के पदाधिकारी पहुंचे. इस दौरान डैम के फाटक को मैन्युअल तरीके से खोलने को लेकर कोशिश करते नजर आए. पेयजल विभाग के असिस्टेंट इंजीनियर शंकर दास ने कहा कि फिलहाल डैम के फाटक को खोलने की जरूरत है. लेकिन आने वाले दिनों अगग बारिश नहीं रूकी तो फाटक को खोलना पड़ेगा.

2010 में हुआ था फाटक को खोलने का असफल प्रयास
हटिया डैम का फाटक जाम हो चुका है. फाटक के पार्ट्स भी चोरी हो चुके हैं. इस कारण साल 2010 में इन्हें खोला नहीं गया था. हालांकि इस जलस्तर बढ़ने पर इस बार मैन्युअल फाटक खोलने का प्रयास किया जाएगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज