लग्जरी गाड़ी और लाइसेंसी हथियार के साथ ITBP का पूर्व जवान करता था नकली शराब की तस्करी, ऐसे हुआ खुलासा

जब्त गाड़ियों में सियासी दलों के नेम प्लेट लगाये हुए मिले हैं.
जब्त गाड़ियों में सियासी दलों के नेम प्लेट लगाये हुए मिले हैं.

रांची में उत्पाद विभाद की टीम ने नकली शराब (Fake Wine) की तस्करी में शामिल तीन लोगों को गिरफ्तार किया. इनमें से एक आईटीबीपी का पूर्व जवान है, जो इस तस्कर गिरोह का सरगना है.

  • Share this:
रांची. झारखंड की राजधानी रांची में लग्जरी गाड़ी और लाइसेंसी हथियार के साथ नकली शराब (Fake Wine) की तस्करी की जा रही थी. पुलिस ने तीन आरोपियों को हथियार और शराब के साथ गिरफ्तार कर मामले का भंडाफोड़ किया. जांच में शराब माफियाओं के बिहार कनेक्शन की भी बात सामने आयी है. तस्कर गिरोह का सरगना संतोष पाठक आईटीबीपी (ITBP) का पूर्व जवान है.

उत्पाद विभाग की टीम ने रांची के रातु थानाक्षेत्र के सीमालिया इलाके में शराब माफिया संतोष पाठक, जितेंद्र कुमार राय और संजीत कुमार को गिरफ्तार किया. इनके पास से 12 पेटी अवैध शराब बरामद की गयी. दो लग्जरी गाड़ी, जिन पर राजनीतिक दलों के नेम प्लेट लगे हैं, को भी जब्त किया गया. एक पिस्टल, दो रायफल, कुछ कारतूस और 71 हजार रुपए भी बरामद हुए.

सहायक उत्पाद आयुक्त रामलीला रवानी ने बताया कि इन्हीं गाड़ियों का इस्तेमाल कर आरोपी नकली शराब की तस्करी किया करते थे. इनका ये अवैध कारोबार बिहार तक फैला हुआ था. बिहार में ये लोग नकली शराब को खपाते थे. गुप्त सूचना पर पुलिस की मदद से आरोपियों को गिरफ्तार किया गया.



बिहार में चुनाव की वजह से बढ़ी शराब की मांग
बिहार में विधानसभा चुनाव को लेकर शराब की डिमांड बढ़ गई है. जिसका फायदा शराब माफिया उठा रहे हैं. सहायक उत्पाद आयुक्त ने कहा कि जब्त हथियारों के लाइसेंस की भी जांच की जा रही है.

6 शराब माफिया उत्पाद विभाग के रडार पर

कोरोना संकट के बीच झारखंड में अवैध शराब का कारोबार काफी फल-फूल रहा है. हालांकि शराब माफियाओं पर उत्पाद विभाग की कार्रवाई भी जारी है. रांची के 6 शराब माफियाओं पर उत्पाद विभाग की पैनी नजर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज