सेहत के मामले में बिहार- यूपी से बेहतर झारखंड

स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के मामले में झारखंड तीसरे, जबकि हरियाणा और राजस्थान पहले और दूसरे स्थान पर हैं.

News18 Jharkhand
Updated: June 26, 2019, 12:30 PM IST
सेहत के मामले में बिहार- यूपी से बेहतर झारखंड
सेहत के मामले में बिहार- यूपी से बेहतर झारखंड
News18 Jharkhand
Updated: June 26, 2019, 12:30 PM IST
स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में झारखंड की स्थिति बिहार और यूपी जैसे राज्यों से बेहतर है. नीति आयोग की रिपोर्ट में सेहत के मामले में झारखंड को 14वां स्थान प्राप्त हुआ है. वहीं बिहार को 20वां और यूपी को 21वां स्थान मिला है. केरल अव्वल राज्य बनकर उभरा है. दूसरे स्थान पर आंध्र प्रदेश और तीसरे पर महाराष्ट्र है.

रिपोर्ट में यूपी निचले पायदान पर

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा विश्व बैंक के सहयोग से तैयार नीति आयोग की रिपोर्ट 'स्वस्थ राज्य, प्रगतिशील भारत' नामक शीर्षक से जारी हुई. इसमें स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर राज्यों की रैंकिंग बताई गई है. इस रैंकिंग में यूपी सबसे निचले 21वें स्थान पर है. जबकि बड़े राज्यों में गुजरात, पंजाब और हिमाचल प्रदेश चौथे, पांचवें और छठे स्थान पर हैं.

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि यह बड़ा प्रयास है, जिसका मकसद राज्यों को महत्वपूर्ण संकेतकों के आधार पर स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में सुधार के लिए प्रेरित करना है.

23 संकेतकों के आधार पर रैंकिंग

यह रैंकिंग 23 संकेतकों के आधार पर तैयार की गई. यह दूसरा मौका है, जब नीति आयोग ने राज्यों की रैंकिंग तैयार की है. स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के मामले में झारखंड तीसरे, जबकि हरियाणा और राजस्थान पहले और दूसरे स्थान पर हैं.

सीएम ने दी बधाई
Loading...

सीएम रघुवर दास ने झारखंड के बेहतर प्रदर्शन के लिए बधाई दी है. ट्वीट कर उन्होंने लिखा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में झारखंड तेजी से आगे बढ़ रहा है. नीति आयोग की रिपोर्ट इस बात को दर्शाता है.



ये भी पढ़ें- औचक निरीक्षण कर बोले सीएम, रिम्स में हो निजी अस्पतालों जैसी सुविधा

कैबिनेट बैठक: झारखंड सरकार का कर्मचारियों को तोहफा, 6 फीसदी बढ़ा डीए

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 26, 2019, 12:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...