जानिए जंगलों में नक्सलियों के अलावा कौन है जवानों का दुश्मन...
Ranchi News in Hindi

झारखंड में मॉनसून के दस्तक के साथ ही एंटी नक्सल ऑपरेशन में शामिल जवानों की परेशानी बढ़ गई है. बारिश के मौसम में उन्हें ना सिर्फ नक्सलियों से बल्कि मच्छरों से भी लड़ना पड़ता है.

  • Share this:
झारखंड में मॉनसून की बारिश से एक तरफ जहां किसानों के चेहरे खिल उठे हैं वहीं दूसरी तरफ एंटी नक्सल ऑपरेशन में शामिल जवानों की परेशानी बढ़ गई है. बारिश के मौसम में जवानों को नक्सलियों के साथ-साथ जंगली जीव-जंतु, कीड़े-मकोड़े और मच्छरों से भी लड़ना पड़ रहा है.

मॉनसून के दस्तक के साथ ही एंटी नक्सल ऑपरेशन में शामिल जवानों की परेशानी बढ़ गई है. बारिश के मौसम में उन्हें ना सिर्फ नक्सलियों से बल्कि मच्छरों से भी लड़ना पड़ता है. इतना ही नहीं, बारिश के कारण  बारूदी सुरंग का पता लाने में ना सिर्फ दिक्कत होती है. इन सब के अलावा नक्सली बारिश के मौसम में घने जंगल में छुप कर आसानी से हमला कर सकते हैं.

प्रतिकूल परिस्थिति में भी सुरक्षाबलों के हौसले बुलंद



प्रतिकूल परिस्थिति में भी सुरक्षाबलों के हौसले पर कोई असर नहीं पड़ता है. बारिश के मौसम में होने वाली दिक्कतों से निपटने के लिए सुरक्षाबलों की मुक्कमल तैयारी रहती है. मच्छरों से निपटने के लिए उन्हें स्पेशल किट दिये जाते हैं. जवानों को प्रदूषित पानी ना पीना पड़े इसके लिए भी दवाइयां उपलब्ध कराई जाती है.
नक्सली फिर कर रहे हैं सिर उठाने की कोशिश

लोकसभा चुनाव के बाद कुछ इलाकों में नक्सली गतिविधि बढ़ी है. नवंबर-दिसंबर में राज्य में विधानसभा चुनाव भी होने वाले हैं, ऐसे में आशंका है कि मॉनसून का फायदा उठाकर नक्सली फिर सिर उठा सकते हैं. लेकिन अपने जोश और जूनून से हमारे जवान विषम परिस्थितियों में भी नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार हैं.
ये भी पढ़ें- पलामू: नक्सलियों के 5 केन बम नाले से बरामद

हथियार सप्लायर्स का बड़ा खुलासा, नक्सलवाद को बढ़ावा दे रहे हैं कुछ सफेदपोश
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading