होम /न्यूज /झारखंड /

निक्की प्रधान, सलीमा टेटे और संगीता कुमारी कॉमनवेल्थ गेम्स से लौटीं रांची, दमदार स्वागत

निक्की प्रधान, सलीमा टेटे और संगीता कुमारी कॉमनवेल्थ गेम्स से लौटीं रांची, दमदार स्वागत

रांची एयरपोर्ट पर अपने मेडल दिखातीं भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी निक्की, सलीमा और संगीता.

रांची एयरपोर्ट पर अपने मेडल दिखातीं भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी निक्की, सलीमा और संगीता.

Warm Welcome: टूर्नामेंट में न्यूजीलैंड के खिलाफ पदक जीतने वाले मैच में एकमात्र मैदानी गोल करने वाली सलीमा टेटे ने कहा कि कांस्य जीतने से टीम का हौसला बढ़ा है और ये हौसला अगले टूर्नामेंट में टीम के काम आएगा. टीम की तेज तर्रार फॉरवर्ड संगीता कुमारी ने बताया कि कॉमनवेल्थ गेम्स से काफी कुछ सीखने को मिला है. टीम की डिफेंडर निक्की प्रधान ने भी शानदार खेल का प्रदर्शन किया.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

निक्की प्रधान, सलीमा टेटे व संगीता कुमारी भारतीय हॉकी महिला टीम की खिलाड़ी हैं.
भारतीय हॉकी महिला टीम ने हाल में संपन्न हुए राष्ट्रमंडल खेल में कांस्य पदक जीता है.
झारखंड की इन तीनों खिलाड़ियों का कॉमनवेल्थ गेम्स में शानदार प्रदर्शन रहा है.

रांची. राष्ट्रमंडल खेल में शानदार प्रदर्शन कर कांस्य जीतने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ियों का उनके शहरों में जोरदार स्वागत किया जा रहा है. बुधवार को झारखंड की तीन खिलाड़ी निक्की प्रधान, सलीमा टेटे और संगीता कुमारी भी लौटीं. रांची एयरपोर्ट पर उनका शानदार स्वागत किया गया. उनके स्वागत में झारखंड हॉकी संघ, खिलाड़ियों के परिवार और पूर्व अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी एयरपोर्ट पर मौजूद रहे.

रांची एयरपोर्ट से जैसे ही तीनों खिलाड़ी बाहर निकलीं, सबसे पहले उन्होंने अपना पदक दिखाया. इस नजारे को देखकर स्वागत करनेवाले लोगों का उत्साह चरम पर पहुंच गया. लोगों ने उन्हें फूल-मालाओं से लाद दिया गया. तीनों खिलाड़ी ऐसे शानदार स्वागत से अभिभूत हो उठे. दो बार की ओलंपिक खिलाड़ी निक्की प्रधान ने कहा कि इस तरह के सम्मान और स्वागत से खिलाड़ियों का हौसला बढ़ता है और भविष्य में और बेहतर करने की प्रेरणा मिलती है.

टूर्नामेंट में न्यूजीलैंड के खिलाफ पदक जीतने वाले मैच में एकमात्र मैदानी गोल करने वाली सलीमा टेटे ने कहा कि टीम के खिलाड़ियों को फाइनल में नहीं पहुंचने का अफसोस है. लेकिन कांस्य जीतने से टीम का हौसला बढ़ा है और ये हौसला अगले टूर्नामेंट में टीम के काम आएगा.

टीम की तेज तर्रार फॉरवर्ड संगीता कुमारी ने बताया कि कॉमनवेल्थ गेम्स से काफी कुछ सीखने को मिला है. इसका फायदा अगले टूर्नामेंट में मिलेगा. बता दें कि भारतीय महिला हॉकी टीम ने 16 साल बाद कॉमनवेल्थ गेम्स में पदक जीता है. टीम ने न्यूजीलैंड को पेनाल्टी शूटआउट में 2-1 से पराजित कर कांस्य पदक पर कब्जा किया. इससे पहले 2002 में भारतीय महिला हॉकी टीम ने स्वर्ण पदक और 2006 में रजत पदक जीता था.

इस जीत में झारखंड की तीन खिलाड़ियों ने जबरदस्त प्रदर्शन किया है. भारत की ओर से हुआ एकमात्र गोल झारखंड की सलीमा टेटे ने 29वें मिनट में किया था. हालांकि इसके बाद गोल बराबरी पर होने पर पेनाल्टी शूटआउट हुआ, जिसमें भारतीय टीम ने 2-1 से बाजी मार ली.

प्रतियोगिता से पूर्व ही भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने झारखंड की सलीमा टेटे से बातचीत भी की थी और उसे प्रोत्साहित भी किया था. प्रतियोगिता में संगीता कुमारी ने एक गोल और सलीमा टेटे ने 3 गोल किए. दोनों ही खिलाड़ियों के खेल को काफी सराहना मिली, साथ ही टीम की डिफेंडर निक्की प्रधान ने भी शानदार खेल का प्रदर्शन किया.

झारखंड हॉकी संघ के अध्यक्ष भोलानाथ सिंह ने बताया कि देश और दुनिया में झारखंड के हॉकी खिलाड़ियों को पहचान मिल रही है. यहां के खिलाड़ी लगातार बेहतर प्रदर्शन कर ओलंपिक जानेवाली टीम में भी अपना स्थान मजबूती से बना रहे हैं.

Tags: Indian Hockey Team, Jharkhand news, Ranchi news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर