Home /News /jharkhand /

झारखंड सरकार की इस स्कीम से 50 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार, बड़े काम का होगा ये कॉरिडोर

झारखंड सरकार की इस स्कीम से 50 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार, बड़े काम का होगा ये कॉरिडोर

Jharkhand Latest News: धनबाद-साहेबगंज हाईव के पास इंडस्ट्रियल कॉरिडोर डेवलप करने की योजना है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

Jharkhand Latest News: धनबाद-साहेबगंज हाईव के पास इंडस्ट्रियल कॉरिडोर डेवलप करने की योजना है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

Jharkhand Industrial Corridor: धनबाद के गोविंदपुर को साहेबगंज से जोड़ने वाली सड़क तकरीबन 311 किलोमीटर लंबी है. इसके 50 किलोमीटर के दायरे में इंडस्ट्रियल कॉरिडोर डेवलप करने की योजना है. यह हाईवे दो लेन का है, जिसे फोर लेन का किया जाएगा. इसके बाद औद्योगिक गलियारा विकसित किया जाएगा. एक अनुमान के अनुसार, 500 एकड़ जमीन पर इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनने से प्रत्‍यक्ष रोजगार के 50000 से ज्‍यादा मौके सृजित होंगे.

अधिक पढ़ें ...

    रांची. सबकुछ योजना के अनुसार हुआ तो झारखंड में एक साथ रोजगार के हजारों मौके सृजित होंगे. झारखंड में धनबाद-साहेबगंज के बीच इंडस्ट्रियल कॉरिडोर विकसित करने की येाजना है. एक अनुमान के मुताबिक, औद्योगिक गलियारा बनने की स्थिति में एक साथ 50 हजार से ज्‍यादा प्रत्‍यक्ष रोजगार के मौके पैदा होंगे. दरअसल, झारखंड सरकार ने धनबाद के गोविंदपुर से साहेबगंज को जोड़ने वाले हाईवे के किनारे 500 एकड़ जमीन पर इंडस्ट्रियल कॉरिडोर विकसित करने की योजना तैयार की है. मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसके लिए सड़क के दोनों ओर जमीन चिह्नित करने का निर्देश दिया है. साथ ही प्रदेश के उद्योग और राजस्‍व एवं भूमि सुधार विभाग के सचिवों को यहां उद्योग की संभावना, जमीन की उपलब्‍धता और अन्‍य संसाधनों का अध्‍ययन कर एक रिपोर्टबनाने को कहा है.

    धनबाद के गोविंदपुर से साहेबगंज को जोड़ने वाली सड़क 311 किलोमीटर लंबी है. धनबाद कोयला उत्पादन का हब है, जबकि साहेबगंज में राज्य का एकमात्र बंदरगाह दो साल पहले शुरू हुआ है. ऐसे में इस हाईवे और इसके आस-पास के इलाकों में औद्योगिक विकास की पर्याप्त संभावनाएं हैं. उद्योगों के लिए कच्‍चा माल से लेकर तैयार प्रोडक्ट के परिवहन के लिहाज़ से भी यह हाईवे अहम साबित होगा. फिलहाल यह सड़क टू लेन की है, जिसे फोरलेन में तब्दील करने का प्रोजेक्ट जल्द शुरू होने की उम्मीद है. इसके साथ ही सड़क के 50 किलोमीटर के दायरे में इंडस्ट्रियल-इकोनॉमिक कॉरिडोर बनाने की योजना है. इसके धरातल पर उतरने से 50 हजार से ज्यादा लोगों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार के अवसर सृजित होने की संभावना है.

    Traffic Alert: छठ महापर्व को लेकर रांची में बदला ट्रैफिक रूल, भारी वाहनों के प्रवेश पर रोक

    सीएम हेमंत सोरेन ने अधिकारियों को उद्योग के साथ-साथ आवास के लिए भी भूमि चिह्न्ति करने का निर्देश दिया है. इसके लिए राज्य सरकार ने संथालपरगना प्रमंडल के अंतर्गत आनेवाले सभी जिलों के उपायुक्तों को भी निर्देशित किया है. अधिकारियों को रैयतों की जमीन के अधिग्रहण के एवज में दिए जाने वाले मुआवजे और सुविधाओं आदि का भी आकलन करने के कहा गया है, ताकि जमीन अधिग्रहण में कोई समस्‍या न हो.

    गोविंदपुर-साहेबगंज रोड को औद्योगिक गलियारा के रूप में विकसित करने के क्रम में कई सहायक सड़कों का भी निर्माण किया जाएगा, ताकि इस सड़क के आसपास स्थापित होने वाली औद्योगिक इकाइयां मुख्य सड़क से जुड़ सकें. उद्योग लगाने की इच्छुक कंपनियों को इकाइयां स्थापित करने के लिए जमीन उपलब्ध कराई जाएगी. यह सड़क आगे चलकर साहेबगंज में गंगा नदी और वहां बन रहे गंगा ब्रिज से भी जुड़ेगी, जहां से बिहार और उत्‍तर-पूर्व के रज्‍यों में जाना आसान होगा. इससे व्यवसाय के दायरे का भी विस्तार होने की पर्याप्‍त संभावनाएं हैं.

    Tags: Jharkhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर