लाइव टीवी

14 के बजाय 15 जनवरी को मनेगी मकर संक्रांति, जानें कब करें स्नान व पूजा-पाठ?
Ranchi News in Hindi

News18 Jharkhand
Updated: January 14, 2019, 11:45 AM IST
14 के बजाय 15 जनवरी को मनेगी मकर संक्रांति, जानें कब करें स्नान व पूजा-पाठ?
मकर संक्रांति का सजा बाजार

स्वामी दिव्यानंद जी महाराज कहते हैं कि सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण होने के विशेष काल को मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है. इसका खास महत्व है.

  • Share this:
झारखंड में इस बार मकर संक्रांति 14 के बजाय 15 जनवरी को मनाया जाएगा. पंडितों के मुताबिक 14 जनवरी की रात 2 बजकर 13 मिनट पर सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेगा. ऐसे में श्रद्धालु पूण्यकाल में सुबह से लेकर 10 बजकर 13 मिनट तक स्नान, पूजा-पाठ के साथ-साथ दान-पूण्य कर पाएंगे.

स्वामी दिव्यानंद जी महाराज कहते हैं कि मकर संक्रांति प्रकृति की अराधना का विशेष पर्व है, जिसमें आध्यात्म के साथ-साथ उल्लास भी है. सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण होने के विशेष काल को मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है. इसका खास महत्व है.
दान-पूण्य के अलावा इस मौके पर काला तिल, दही-चूड़ा और खिचड़ी खाने की परंपरा है.

मकर संक्रांति को लेकर रांची में बाजार सजा हुआ है. पिछले वर्ष की तूलना में इस बार तिल का भाव चढ़ा हुआ है, जिसके कारण तिलकुट के दाम भी बढ़े हुए हैं. इसके बावजूद



आस्था के आगे लोग महंगाई की परवाह किये बिना खरीदारी कर रहे हैं.



मकर संक्रांति से ही चैत्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा का आगाज होता है, जो हिन्दू धर्मावलंबियों के लिए नये वर्ष की शुरुआत है. इसी के साथ खरमास की समाप्ति होती है और शुभ कार्यों पर लगी धार्मिक रोक हट जाती है.

रिपोर्ट- भुवन किशोर झा 

ये भी पढ़ें- देवघर: तीर्थयात्रियों के लिए पेड़े के साथ तिलकुट भी बना बाबाधाम की पहचान

पूर्वी सिंहभूम: मकर पर्व पर गरीब महिलाओं को कपड़े बांटकर मनाई गई खुशियां

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2019, 11:44 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading