रांची: गांव में वैक्सीनेशन को लेकर जागरूकता फैलाने निकलीं अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज बेटियां

कई अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर के तीरंदाज और कोच सिल्ली के गांव की गलियों में उतरे.

कई अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर के तीरंदाज और कोच सिल्ली के गांव की गलियों में उतरे.

सिल्ली के ग्रामीणों ने भी देश दुनिया में नाम कमा चुकी अपने गांव की बेटियों की बातों को बड़े गौर से सुना. जागरूकता कार्यक्रम के बाद ग्रामीणों ने कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर उनके मन में अब कोई संदेह नहीं है और वह अपना टीकाकरण जरूर कराएंगे.

  • Share this:

रांची. राज्यभर में वैक्सीनेशन को लेकर लगातार जागरूकता कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं. बावजूद इसके ग्रामीण इलाकों में एक बड़ा तबका ऐसा भी है जिसने वैक्सीनेशन से अब तक दूरी बना रखी है. रांची के सिल्ली के ग्रामीण इलाकों में वैक्सीनेशन जागरूकता अभियान का शुक्रवार को एक अनूठा नजारा देखने को मिला. गली-मोहल्लों में कुछ विशेष चेहरे ग्रामीणों को टीके का मंत्र देने निकले थे. कई अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर के तीरंदाज और कोच सिल्ली के गांव की गलियों में उतरे. इन गलियों से अपना पुराना नाता रखने वाले इन खिलाड़ियों और कोच ने ग्रामीणों को वैक्सीनेशन के जहां फायदे बताए, वहीं टीका नहीं लेने पर नुकसान के बारे में भी जानकारी दी. स्थानीय बोली और भाषा में चले इस जागरूकता कार्यक्रम का ग्रामीणों पर काफी असर पड़ता नजर आया.

इस जागरुकता कार्यक्रम में अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज और एशियन गेम्स मेडलिस्ट मधुमिता कुमारी, अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज अनिता कुमारी, राष्ट्रीय तीरंदाज और राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित शिंपी कुमारी, राष्ट्रीय कोच प्रकाश राम और शिशिर महतो समेत कई खिलाड़ी और कोच शामिल हुए.

अंतर्राष्ट्रीय तीरंदाज मधुमिता ने बताया कि जिन गलियों में वह पली-बढ़ीं, आज उसी गांव को वैक्सीनेशन के लिए जागरूक करने में उन्हें काफी खुशी हो रही है क्योंकि पूरे गांव के लोग उनके अपने हैं. गांव के ही 65 वर्षीय धनेश्वर महतो बताते हैं कि जिन बेटियों को उन्होंने बचपन से गांव में पलते बढ़ते देखा. उन्हीं बेटियों ने पूरी दुनिया में अपना नाम कमाया और आज वही बेटियां गांव के बुजुर्गों और युवाओं को जागरूक करने निकली हैं. सबसे बड़ी बात यह रही कि स्थानीय प्रशासन ने भी इस जागरूकता कार्यक्रम के लिए खिलाड़ियों की जमकर तारीफ की. बीडीओ और सीओ ने कहा कि सिल्ली के खिलाड़ियों और कोच ने अपने क्षेत्र के लिए अपना फर्ज निभाया है. इस दौरान बीडीओ और सीओ भी ग्रामीणों को वैक्सीनेशन के लिए जागरूक करते नजर आए.

सिल्ली के ग्रामीणों ने भी देश दुनिया में नाम कमा चुकी अपने गांव की बेटियों की बातों को बड़े गौर से सुना. जागरूकता कार्यक्रम के बाद ग्रामीणों ने कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर उनके मन में अब कोई संदेह नहीं है और वह अपना टीकाकरण जरूर कराएंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज