Home /News /jharkhand /

गाल और जीभ को छेदते हुए स्‍कल बोन में जा फंसा लोहे का सरिया, RIMS के डॉक्‍टरों ने बचाई 6 वर्षीय प्रतीक की जान

गाल और जीभ को छेदते हुए स्‍कल बोन में जा फंसा लोहे का सरिया, RIMS के डॉक्‍टरों ने बचाई 6 वर्षीय प्रतीक की जान

Health News: लोहे का सरिया 6 साल के प्रतीक के मुंह के आरपार हो गया था. रिम्‍स के डॉक्‍टरों ने डेढ़ घंटे की सर्जरी के बाद उसकी जान बचाई. (फाइल फोटो)

Health News: लोहे का सरिया 6 साल के प्रतीक के मुंह के आरपार हो गया था. रिम्‍स के डॉक्‍टरों ने डेढ़ घंटे की सर्जरी के बाद उसकी जान बचाई. (फाइल फोटो)

RIMS Latest Update: रांची के धुर्वा इलाके के आदर्श नगर में रहने वाला 6 साल का प्रतीक अमरूद तोड़ने की कोशिश कर रहा था. इस दौरान लोहे का सरिया उसके गाल और जीभ को छेदता हुआ स्‍कल बोन तक पहुंच गया था. ऐसे में जनरल सर्जरी डिपार्टमेंट के डॉक्‍टरों ने अन्‍य विभागों के एक्‍सपर्ट की एक टीम बनाई और बच्‍चे के मुंह में फंसे सरिया को सफलतापूर्वक बाहर निकाला.

अधिक पढ़ें ...

रांची. राजेंद्र इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज- रिम्‍स (Rajendra Institute of Medical Sciences-RIMS) के डॉक्‍टरों ने एक बार फिर से अपना लोहा मनवाया है. दरअसल, लोहे का सरिया एक 6 साल के बच्‍चे के दोनों गालों और जीभ को छेदते हुए इस पार से उस पार हो गया था. सरिया बच्‍चे के स्‍कल बोन में जा फंसा था. बच्‍चे के परिजन उसे लेकर रिम्‍स पहुंचे. डॉक्‍टरों ने मासूम का प्रारंभिक इलाज किया गया और मामले की गंभीरता को देखते हुए सीनियर डॉक्‍टरों को इसकी सूचना दी. वरिष्‍ठ डॉक्‍टर्स ने जब बच्‍चे की हालत देखी तो उन्‍होंने तत्‍काल 5 मेडिकल डिपार्टमेंट के डॉक्‍टरों की एक टीम बनाई. तकरीबन डेढ़ घंटे की सर्जरी के बाद लोहे के सरिये का निकाल कर बच्‍चे की जान बचाई जा सकी. फिलहाल गंभीर रूप से घायल बच्‍चा आईसीयू में भर्ती है.

जानकारी के मुताबिक, रांची के धुर्वा इलाके के आदर्श नगर निवासी 6 साल का प्रतीक अमरूद तोड़ने की कोशिश कर रहा था. इस दौरान लोहे का सरिया उसके मुंह के इस पार से उस पार हो गया. सरिया गाल से होते हुए जीभ को छेद चुका था. आनन-फानन में परिजन उसे लेकर रिम्स पहुंचे. इमरजेंसी के माइनर ओटी में देखने के बाद जूनियर डॉक्टर ने अपने सीनियर्स को इसकी सूचना दी. गंभीर स्थिति को देखते हुए तुरंत ऑपरेशन की तैयारी शुरू की गई. चूंकि बच्चे की उम्री कम थी, इसलिए जनरल सर्जरी विभाग ने पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग से सामंजस्य स्थापित कर 5 विभाग के डॉक्टरों की टीम बनाई और बच्‍चे को ऑपरेशन थियेटर में ले गए. डेढ़ घंटे की सर्जरी के बाद डॉक्टरों ने प्रतीक के मुंह में फंसे रॉड को बाहर निकाला. रॉड गाल से घुसकर जीभ में छेद करते हुए ब्रेन के स्कल के हड्डी तक पहुंच चुका था. डॉक्‍टरों ने बतया कि बच्‍चे की हालत में तेजी से सुधार आ रहा है और उसे जल्‍द ही अस्‍पताल से छुट्टी दे दी जाएगी.

RIMS News

अमरूद तोड़ने के दौरान सरिया प्रतीक के मुंह के आरपार हो गया. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

5 डिपार्टमेंट के एक्‍सपर्ट की टीम
ऑपरेशन करने वाली डॉक्‍टरों की टीम में सिर्फ जनरल सर्जन ही नहीं, बल्कि 5 विभाग के एक्सपर्ट भी ओटी में मुस्तैद थे. प्रतीक की स्थिति को देखते हुए ऑपरेशन सिर्फ सामान्य सर्जरी के बस में नहीं था. चूंकि गाल और जीभ डैमेज था और यह दांत से जुड़ा मामला भी था. ऐसे में तुरंत संबंधित पांच मेडिकल डिपार्टमेंट को एक्टिव किया गया. जनरल सर्जरी की कॉल पर ओटी में पीडियाट्रिक सर्जन, प्लास्टिक सर्जन, ईएनटी सर्जन, डेंटल सर्जन और एनेस्थिसिया के एक्सपर्ट डॉक्टर सर्जरी के दौरान मुस्तैद रहे.

टीम में शामिल रहे ये डॉक्टर
सर्जरी टीम में डॉ. आरएस शर्मा, डॉ. संदीप कुमार, डॉ. विक्रांत रंजन, डॉ. सौरभ कुमार, डॉ. इंदु शेखर, एनेस्थिसिया से डॉ. प्रियंका श्रीवास्तव, डेंटल से डॉ. वीके प्रजापति, डॉ. रोहित, ईएनटी से डॉ. जेडएम खान, डॉ. अनस, डॉ नोमान समेत अन्य एक्‍सपर्ट शामिल थे.

Tags: Health News, Ranchi news, RIMS

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर