लाइव टीवी
Elec-widget

गुल्लक के पैसे से 9वीं की छात्रा ने बनवाए 10 टॉयलेट, मुख्य सचिव बोले- इसे अभियान बनाओ

News18 Jharkhand
Updated: October 23, 2019, 11:09 PM IST
गुल्लक के पैसे से 9वीं की छात्रा ने बनवाए 10 टॉयलेट, मुख्य सचिव बोले- इसे अभियान बनाओ
14 वर्षीय मोंद्रिता चटर्जी हिलटॉप स्कूल, जमशेदपुर की छात्रा है. पिछले 5 साल में वह गुल्लक के पैसे से 10 टॉयलेट बनवा चुकी है

छात्रा मोंद्रिता चटर्जी (Mondrita Chatterjee) ने बताया कि अब उसके गुल्लक में परिचितों और रिश्तेदारों के अलावा कोलकाता और असम के अपरिचित लोग भी योगदान कर रहे हैं.

  • Share this:
रांची. गुल्लक के पैसे से 10 शौचालय (Toilet) बनवाने वाली नौंवी की छात्रा मोंद्रिता चटर्जी (Mondrita Chatterjee) की मुख्य सचिव डॉ. डी. के. तिवारी (Dr. D. K. Tiwari) ने जमकर तारीफ की. उन्होंने मोंद्रिता को इसे अभियान (Campaign) बनाने को कहा और इस काम में अपने स्कूल के अन्य विद्यार्थियों (Students) को भी जोड़ने की सलाह दी. मुख्य सचिव ने कहा कि स्वच्छता से जुड़े इस काम में अन्य स्कूल के विद्यार्थियों को जोड़ने के लिए वे शिक्षा विभाग (Education Department) को पत्र लिखेंगे. सीएस ने मोंद्रिता को पेयजल एवं स्वच्छता सचिव से मुलाकात कर विभाग की योजनाओं से जुड़ने की भी सलाह दी.

मोंद्रिता अपने माता-पिता के साथ झारखंड मंत्रालय में मुख्य सचिव से मिलने आई थी. इस दौरान उसने मुख्य सचिव को बापू की 150वीं जयंती पर समर्पित अपने कामों से जुड़ी पुस्तिका 'माई लिटल स्टेप टुवर्ड्स क्लीन इंडिया' भेंट की. मुख्य सचिव ने मोंद्रिता के कामों से प्रभावित होकर उसे प्रशस्ति पत्र देने का ऐलान किया.

हिलटॉप स्कूल, जमशेदपुर की छात्रा है मोंद्रिता
14 वर्षीय मोंद्रिता चटर्जी हिलटॉप स्कूल, जमशेदपुर की छात्रा हैं. उसने 2014 से गुल्लक में पैसा जमा कर सबसे पहले 2016 में जमशेदपुर से सटे केंद्राडीह गांव में दो सार्वजनिक शौचालय का निर्माण कराया. इस सफलता के बाद उसकी शिक्षिका मां स्वीटी चटर्जी और मेहरबाई कैंसर अस्पताल, जमशेदपुर में कार्यरत पिता अमिताभ चटर्जी भी अपने वेतन का 15 फीसदी हिस्सा देकर उसकी मदद करने लगे. कारवां बढ़ चला और अब तक कुल 10 शौचालय मोंद्रिता ने अपने प्रयास से बनाए हैं.

समाचार पत्रों से मिली प्रेरणा
मोंद्रिता कहती है कि उसे समाचार पत्रों और अन्य लोगों से सुनकर शौचालय बनाने की प्रेरणा मिली. अब वह इस अभियान से अन्य विद्यार्थियों को जोड़ने के साथ-साथ विभिन्न स्कूलों और गांवों में स्वच्छता का संदेश प्रचारित करना चाहती है. बतौर मोंद्रिता अब उसके गुल्लक में परिचितों और रिश्तेदारों के अलावा कोलकाता और असम के अपरिचित लोग भी योगदान कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- विपक्षी विधायकों के बीजेपी में शामिल होने पर बोले बाबूलाल- जहां मधु रहता है, वहीं चींटियां जाती हैं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 10:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...