अब विदेशों में धूम मचाएगी झारखंड की हरी सब्जियां, कार्गो के जरिए बाहर भेजने की तैयारी
Ranchi News in Hindi

अब विदेशों में धूम मचाएगी झारखंड की हरी सब्जियां, कार्गो के जरिए बाहर भेजने की तैयारी
झारखंड के किसानों को उम्मीद है कि कृषि विभाग की इस योजना से उनकी माली हालत सुदृढ़ होगी (फाइल फोटो)

कृषि विभाग (Agriculture Department) ने योजना के पहले चरण में रांची और जमशेदपुर जिले में उपजने वाली सब्जियों को विदेश भेजने की तैयारी की है. इससे यहां के करीब 500 किसानों को सीधे तौर पर लाभ मिलेगा

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 9:42 PM IST
  • Share this:
रांची. झारखंड (jharkhand) की सब्जियां अब विदेशों में भी धूम मचाएंगी. कृषि विभाग (Agriculture Department) के पहल पर प्रथम चरण में राजधानी रांची और जमशेदपुर के आसपास के क्षेत्रों में उपजने वाली सब्जियों (Vegetables) को भेजने की तैयारी की जा रही है. सब्जियों को कोलकाता से कार्गो के जरिए विदेश भेजा जाएगा. सरकार की इस पहले से जमशेदपुर और रांची के करीब 500 किसानों को सीधे तौर पर लाभ मिलेगा. कृषि विभाग की योजना दूसरे चरण में हजारीबाग, रामगढ़ और गुमला के किसानों की सब्जियों को विदेश भेजने की है. इन तीनों जिलों में सब्जियों का उत्पादन महिला समूह मिलकर कर रहे हैं. इसके बाद शेष अन्य जिलों के किसानों को इससे जोड़ा जाएगा.

राज्य के कृषि मंत्री बादल बताते हैं कि इससे किसानों की आय तीन गुना तक बढ़ेगी और वो कृषि के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होंगे. झारखंड के ड्रम स्टिक (सहजन की फली) और कटहल को पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, बिहार, दिल्ली में काफी पसंद किया जाता है. झारखंड में करीब 40 लाख मीट्रिक टन (एमटी) सब्जियों का प्रति वर्ष उत्पादन होता है. यहां सब्जियों की उत्पादकता 14.8 एमटी प्रति हेक्टेयर है. राज्य में आलू, मटर, टमाटर, बैंगन, गोभी, बीन्स, भिंडी, कद्दू, करेला, ब्रोकली, हरी मिर्च, कटहल, ड्रम स्टिक, गिलकी सहित अन्य सब्जियों का भरपूर उत्पादन होता है. साथ ही यहां उपजने वाली भिंडी, करेला, मूंगा सूटी, कद्दू, खीरा, फ्रेंचबीन, कटहल, झींगा, परबट्टी (बोदी) आदि सब्जियों को भी काफी पसंद किया जाता है.

अपनी माली हालत सुधरने के आस में खेतों में पसीना बहाने वाले झारखंड के किसानों की आर्थिक स्थिति दयनीय है. एग्रीकल्चर एंड प्रोसेस फूड प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट डेवलपमेंट अथॉरिटी (एपीडा), इ-नैम, कृषि विभाग और संस्था ऑल सीजन फॉर्म फ्रेश ने झारखंड की सब्जियों को विदेश भेजने की तैयारी की है. संभावना जताई जा रही है कि इसके जरिए किसानों को उचित दाम मिलेगा और उन्हें आर्थिक बदहाली से मुक्ति मिलेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading