अपना शहर चुनें

States

Jharkhand: दही-चूड़ा भोज के नाम पर जुटे RJD के नाराज नेता पका रहे अलग 'खिचड़ी'!

रांची के बिहार क्लब में जुटे राजद के असंतुष्ट नेताओं ने तय किया कि 30 जनवरी को बड़ी बैठक कर राज्य इकाई के नेतृत्व को चुनौती दी जाएगी.
रांची के बिहार क्लब में जुटे राजद के असंतुष्ट नेताओं ने तय किया कि 30 जनवरी को बड़ी बैठक कर राज्य इकाई के नेतृत्व को चुनौती दी जाएगी.

बैठक में मौजूद नेताओं ने कहा कि लालू प्रसाद यादव और राजद के वफादार नेताओं की उपेक्षा हो रही है. उन्होंने कहा कि 30 जनवरी को रांची में एक बड़ी बैठक और सभा कर वर्तमान प्रदेश नेतृत्व को चुनौती दी जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2021, 4:54 PM IST
  • Share this:
रांची. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) की झारखंड इकाई (Jharkhand unit) में एक बार फिर प्रदेश नेतृत्व के खिलाफ नाराजगी और बगावत के सुर तेज होते जा रहे हैं. आज रांची (Ranchi) के बिहार क्लब (Bihar Club) में राजद के पुराने नेताओं का जमघट लगा और सभी ने एक स्वर में कहा कि जिन्होंने अपने खून पसीने से पार्टी को सींचा है, आज उन्हीं की उपेक्षा पार्टी में हो रही है.

झारखंड राजद की रविवार को हुई बैठक में पलामू, कोल्हान, कोयलांचल और रांची के कई पुराने नेता शामिल हुए थे. उन्होंने कहा कि पार्टी में दलबदलुओं को सम्मान मिल रहा है जबकि लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) और राजद के वफादार नेताओं की उपेक्षा हो रही है. इसे अब बर्दाश्त करना संभव नहीं है. नाराज नेताओं ने 30 जनवरी को रांची में एक बड़ी बैठक और सभा कर वर्तमान प्रदेश नेतृत्व के समक्ष जोरदार चुनौती पेश करने की घोषणा की.

राजद के पुराने और वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष अभय कुमार सिंह की कार्यशैली से नाराज राजद के बगावती नेताओं के शिष्टमंडल ने घोषणा की कि कोई भी फैसला लेने से पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद से मिलकर सभी जानकारियां दी जाएंगी.



झारखंड में लालू की पार्टी में टूट और बगावत का रहा है लंबा इतिहास
कभी झारखंड में मजबूत जनाधार वाली पार्टी राष्ट्रीय जनता दल में संगठन स्तर पर लगातार नेतृत्व के खिलाफ विद्रोह की स्थिति बनती रही है. प्रदेश अध्यक्ष गिरिनाथ सिंह हों या गौतम सागर राणा या फिर अन्नपूर्णा देवी या अभय सिंह - सभी को अपने ही दल के नेताओं के तीखे बोल और बगावती तेवर का सामना करना पड़ा है. एक दूसरी सच्चाई यह भी है कि अभी तक के सभी राजद प्रदेश अध्यक्ष ने या तो दूसरे दल का दामन थाम लिया है या फिर नया दल ही बना लिया. वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष अभय सिंह भी कई दलों से लौटते हुए अब राष्ट्रीय जनता दल में वापसी की और फिलहाल प्रदेश अध्यक्ष हैं.



झारखंड राजद में ऑल इज वेल : अभय सिंह

राजद के प्रदेश अध्यक्ष ने आज बिहार क्लब में बुलाई विक्षुब्ध नेताओं की बैठक को लेकर कहा कि जो लोग बैठक में शामिल हुए, उनमें कई राजद से निष्कासित नेता हैं और उनका कोई वजूद नहीं है. राजद के प्रदेश वरीय उपाध्यक्ष राजेश यादव के बैठक में शामिल होने पर कहा कि भोज-भात में शामिल होने के लिए सभी स्वतंत्र हैं.

मिल-बैठकर निकालेंगे हल : राजेश यादव

आज दही-चूड़ा भोज के बहाने राजद के नाराज नेताओं की पार्टी में शामिल हुए राजद के वर्तमान वरीय उपाध्यक्ष राजेश यादव ने कहा कि कहीं कोई बगावत और बिखराव नहीं है. पर वर्तमान कार्य पद्धति से पुराने नेताओं में नाराजगी है, जिसे मिल बैठकर दूर कर लिया जाएगा, क्योंकि अभी पिछड़ों को 27 % आरक्षण सहित कई मुद्दों पर राजद को निर्णायक लड़ाई राज्य में लड़ना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज