झारखंड विधानसभा चुनाव : नीतीश ने कार्यकर्ताओं से शऱाबबंदी को चुनावी मुद्दा बनाने की अपील की

रांची में नीतीश ने बिहार में किए गए विकास का बखान करते हुए अपनी पीठ थपथपाई, लेकिन उनकी पार्टी के अन्य कद्दावर नेताओं ने बीजेपी के खिलाफ जमकर बयानबाज़ी की.

0m Prakash | News18 Jharkhand
Updated: September 7, 2019, 11:04 PM IST
झारखंड विधानसभा चुनाव : नीतीश ने कार्यकर्ताओं से शऱाबबंदी को चुनावी मुद्दा बनाने की अपील की
रांची में आयोजित जदयू के कार्यकर्ता सम्मेलन में नीतीश कुमार ने बिहार के विकास का बखान किया
0m Prakash | News18 Jharkhand
Updated: September 7, 2019, 11:04 PM IST
रांची. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने झारखंड में चुनावी अभियान (Election Campaign) का शंखनाद किया. नीतीश ने बिहार में किए गए विकास का बखान करते हुए अपनी पीठ थपथपाई, लेकिन उनकी पार्टी के अन्य कद्दावर नेताओं ने बीजेपी के खिलाफ जमकर बयानबाज़ी की. रांची में आयोजित जदयू (JDU) के कार्यकर्ता सम्मेलन (Worker conference) में नीतीश कुमार ने बिहार के विकास का बखान किया और 2005 के बाद बदले बिहार से कार्यकर्ताओं को रूबररू कराया. उन्होंने कार्यकर्ताओं से नीतीश मॉडल (Nitish Model) का झारखंड में प्रचार प्रसार करने का आह्वान किया. उन्होंने झारखंड में सीएनटी एसपीटी कानून (CNT SPT Act) को लेकर कहा कि इससे छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. उन्होंने ये भी कहा कि अगर इस कानून से छेड़छाड़ हुई तो मूलवासी कहीं के नही रहेंगे.

नीतीश कुमार ने अपने भाषण में आरक्षण का भी कार्ड खेला. साथ ही शराबबंदी को चुनावी मुद्दा बनाने की अपील कार्यकर्ताओं से की. आगामी विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Election) में पार्टी कितने सीटों पर चुनाव लड़ेगी इसका दारोमदार प्रदेश की पार्टी के ही जिम्मे सौंपा और कार्यकर्ताओं को संकल्प भी दिलाया.

झारखंड कार्यकर्ता सम्मेलन में नीतीश कुमार ने 5 मंत्रों के सहारे कार्यकर्ताओं को संकल्प दिलाया.


जदयू नेताओं का बीजेपी पर हमला 

जदयू के प्रदेश स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में भले नीतीश ने बीजेपी के खिलाफ खुलकर बोलने से परहेज किया, मगर पार्टी के अन्य नेता बीजेपी (BJP) का विरोध करते नजर आए. जहां कुछ नेताओं ने खुलकर बीजेपी की आलोचना की तो वहीं कुछ नेताओं ने इशारों में ही कमल पर तीर चलाया. राजीव रंजन सिंह (ललन सिंह) (Rajiv Ranjan Sivan) ने कहा कि बिहार और झारखंड का जब बंटवारा हुआ तब बंटवारे के बाद लोग बिहार का मजाक उड़ाते थे. लोग कहते थे कि बिहार में बचा आलू, लालू और बालू , लेकिन आज समय बदल गया है. उन्होंने कहा कि झारखंड से बेहतर सड़कें बिहार में हैं.

नीतीश मॉडल को देश का मॉडल बताया

वहीं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने इशारों में ही सही नीतीश मॉडल को देश का मॉडल बताया. प्रदेश अध्यक्ष ने झारखंड में आरक्षण, बेरोजगारी, शिक्षा, पलायन, विस्थापन जैसे मुद्दों को उठाते हुए रघुवर सरकार को घेरने की कोशिश की. वहीं नीतीश ने 5 मंत्रों के सहारे कार्यकर्ताओं को संकल्प दिलाया. बिहार के जल संसाधन मंत्री के भी भाषण में बीजेपी विरोधी सुर सुनाई दिए.
Loading...

झारखंड विधानसभा चुनाव को लेकर जदयू की तैयारियां कितनी है ये राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के भाषण से ही पता चलता है, जिसमें उन्होंने साफ कहा कि ये चुनाव प्रदेश में पार्टी के बीजारोपण का समझा जाए. राजनीतिक ताकत के रूप में पार्टी को पेश किया जाए. ऐसे में प्रदेश के नेता खुद को झारखंड में बीजेपी का विकल्प मानने लगे हैं और वक्त बेवक्त बीजेपी को आंख दिखाने से बाज नहीं आते.

ये भी पढ़ें - बछड़े को बचाने के लिए कुएं में उतरे दो लोग, दम घुटने से मौत !

ये भी पढ़ें - रांची में दिनदहाड़े बाइकसवार युवक की गोली मारकर हत्या

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 11:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...