लाइव टीवी

झारखंड में हर बार मिली है सीएम को हार, रिकॉर्ड तोड़ पाएंगे रघुवर दास
Ranchi News in Hindi

News18Hindi
Updated: December 23, 2019, 9:43 AM IST
झारखंड में हर बार मिली है सीएम को हार, रिकॉर्ड तोड़ पाएंगे रघुवर दास
झारखंड के किसी सीएम ने लगातार दूसरी बार जीत हासिल नहीं की है

अगर रघुवर दास (Raghubar Das) दोबारा सीएम बनने में कामयाब रहते हैं तो ये पहली बार होगा, जब कोई मुख्यमंत्री (Chief Minister) लगातार दूसरी बार झारखंड (Jharkhand) की सत्ता हासिल करेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 23, 2019, 9:43 AM IST
  • Share this:
झारखंड चुनाव (Jharkhand Assembly Election) में आज नतीजों का दिन है. वोटों की गिनती जारी है. झारखंड के सीएम रघुवर दास (Raghubar Das) के सामने बड़ी चुनौती है. इस राज्य का इतिहास रहा है कि किसी भी मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने अपना लगातार दूसरा टर्म पूरा नहीं किया है. हर मुख्यमंत्री को अगले चुनाव में हार का सामना करना पड़ा है. झारखंड बनने के 19 साल के इतिहास में ये रिकॉर्ड अभी तक बना हुआ है. अब देखना ये है कि क्या रघुवर दास इस रिकॉर्ड को तोड़ पाते हैं?

अगर रघुवर दास दोबारा सीएम बनने में कामयाब रहते हैं तो ये पहली बार होगा, जब कोई मुख्यमंत्री लगातार दूसरी बार झारखंड की सत्ता हासिल करेगा. 2014 के चुनाव में रघुवर दास झारखंड की जमशेदपुर पूर्वी क्षेत्र से 70 हजार वोटों से जीत हासिल की थी.

19 साल में 6 सीएम ने संभाली सत्ता
बिहार से अलग होकर साल 2000 में झारखंड अलग राज्य बना. इसके बाद राज्य में अब तक तीन चुनाव हो चुके हैं. राजनीतिक अस्थिरता झारखंड में हमेशा बनी रही है. 19 वर्षों में राज्य में 6 मुख्यमंत्री हुए हैं. इसमें सिर्फ रघुवर दास ने ही अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा किया है.



रघुवर दास के साथ बाबूलाल मरांडी, अर्जुन मुंडा, शिबू सोरेन, मधु कोड़ा और हेमंत सोरेन राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. राज्य में चौथी बार विधानसभा का चुनाव हो रहा है.



15 नवंबर 200 को जब बिहार से अलग होकर राज्य का गठन हुआ था तो बिहार विधानसभा का बंटवारा कर राज्य में सरकार बनी थी.

किसी भी सीएम ने नहीं हासिल की लगातार जीत
झारखंड के छह में से किसी मुख्यमंत्री ने दोबारा जीत हासिल नहीं की. 27 अगस्त 2008 को झारखंड के तत्कालीन सीएम मधु कोड़ा ने सीएम के पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा के शिबू सोरेन राज्य के मुख्यमंत्री बने.

jharkhand assembly result 2019 cm has been defeated every time will raghubar das be able to break the record
सीएम रघुवर दास जमशेदपुर पूर्वी सीट से उम्मीदवार हैं


संवैधानिक व्यवस्था के मुताबिक सीएम का पदभार ग्रहण के छह महीने के भीतर शिबू सोरेन को विधानसभा का सदस्य निर्वाचित होना था. उपचुनाव में शिबू सोरेन ने तमार विधानसभा सीट से अपनी किस्मत आजमाई. लेकिन वो चुनाव हार गए. तमार सीट पर हुए उपचुनाव में शिबू सोरेन को राजा पीटर ने शिकस्त दी थी. उपचुनाव में राजा पीटर को 34,127 वोट हासिल हुए थे, जबकि शिबू सोरेन को सिर्फ 25,154 वोट ही मिले. शिबू सोरेन को मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ी.

2014 के चुनाव में 4 पूर्व मुख्यमंत्रियों की हार
2014 के चुनाव में बड़ा उलटफेर हुआ. इस चुनाव में झारखंड के चार पूर्व मुख्यमंत्रियों को हार का मुंह देखना पड़ा. झारखंड के पहले मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने 2014 के चुनाव में दो सीटों से किस्मत आजमाई. वो धनवार और गिरिडीह से चुनाव लड़े. बाबूलाल मरांडी को दोनों सीटों से हार का मुंह देखना पड़ा. गिरिडीह से उन्हें बीजेपी उम्मीदवार निर्भय शाहाबादी ने 31 हजार वोटों से शिकस्त दी. वहीं धनवार सीट से वो सीपीआई (एमएल) के राजकुमार यादव के हाथों हार गए.

अर्जुन मुंडा तीन बार झारखंड के सीएम रह चुके हैं. लेकिन 2014 के चुनाव में उन्हें खरसावां सीट से हार मिली. अर्जुन मुंडा को झारखंड मुक्ति मोर्चा के दशरथ गगराई ने करीब 12 हजार वोटों से हराया.

2014 के चुनाव में एक और पूर्व मुख्यमंत्री को हार का मुंह देखना पड़ा. पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा मझगांव सीट से किस्मत आजमा रहे थे. उन्हें झारखंड मुक्ति मोर्चा के निरल पुर्ति ने शिकस्त दी.

2014 के चुनाव में हेमंत सोरेन राज्य के मुख्यमंत्री और झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष होने के बावजूद हार गए. हेमंत सोरेन ने दुमका और बरहैत सीट से चुनाव लड़ा था. बरहैत सीट से तो वो जीत गए. लेकिन दुमका सीट से उन्हें बीजेपी के लुईस मरांडी के हाथों हार मिली. इस बार फिर वो दुमका और बरहैत सीट से चुनाव लड़ रहे हैं.

jharkhand assembly result 2019 cm has been defeated every time will raghubar das be able to break the record
रघुवर दास 1995 से जमशेदपुर पूर्वी सीट जीतते आ रहे हैं


क्या रघुवर दास तोड़ पाएंगे रिकॉर्ड
झारखंड के मुख्यमंत्री लगातार जीत हासिल करने में नाकाम रहे हैं. इस बार सीएम रघुवर दास के लिए भी मुकाबला आसान नहीं है. रघुवर दास को जमशेदपुर पूर्वी सीट से अपनी ही कैबिनेट के सदस्य रहे सरयू राय से चुनौती मिल रही है. इस सीट से कांग्रेस के धाकड़ प्रवक्ता गौरव बल्लभ भी उम्मीदवार हैं.

जमशेदपुर पूर्वी सीट शहरी इलाके में आता है. यहां बीजेपी की मजबूत स्थिति है. रघुवर दास 1995 से इस सीट से जीतते आ रहे हैं. पांच बार जीत हासिल करने के बाद वो छठी जीत की उम्मीद लगाए बैठे हैं. उनके सामने दोहरी चुनौती है. पहली- अपनी सीट बचाए रखना और दूसरी- बीजेपी को दोबारा सत्ता में वापसी करवाना.

ये भी पढे़ं:

झारखंड: पहली बार 5 साल राज करने वाले रघुवर दास के सिर पर क्या दोबारा सजेगा ताज?
आप सोच भी नहीं सकते इंटरनेट शटडाउन से कितना बड़ा होता है नुकसान
क्या सरकार के पास है दंगाइयों की संपत्ति जब्त करने का अधिकार, जानें कानून
कभी बीजेपी की तारीफों के पुल बांधा करते थे इतिहासकार रामचंद्र गुहा
तो क्या फिर सच साबित होगी डोनाल्ड ट्रंप को लेकर प्रोफेसर की भविष्यवाणी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 23, 2019, 9:43 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading