लाइव टीवी

झारखंड के मंत्री जी को अपने विपक्षी नेताओं से ये है शिकायत...

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: June 29, 2019, 3:53 PM IST
झारखंड के मंत्री जी को अपने विपक्षी नेताओं से ये है शिकायत...
झारखंड के कैबिनेट मिनिस्टर सरयू राय ने विपक्षी पार्टियों पर सवाल उठाए

'हमारे यहां समस्या विपक्ष की है. विपक्ष अगर जिम्मेवार रहे, मजबूत रहे तो सरकार पर कई तरह के दबाव आते हैं. लेकिन हमारे यहां विपक्ष सोया हुआ है और जिम्मेदार नहीं है.'

  • Share this:
झारखंड के सरायकेला खरसावां में भीड़ की हिंसा का शिकार हुए तबरेज अंसारी का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है. झारखंड में बीते बुधवार को ही मोब लिंचिग की एक घटना में एक मुस्लिम युवक तबरेज अंसारी की मौत हो गई थी. इस घटना को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन भी हुए. कई राजनीतिक दलों ने इस मुद्दे को संसद के अंदर-बाहर जोर- शोर से उठाया.  इस घटना को लेकर पीएम मोदी ने भी राज्यसभा में कहा था, 'यह घटना नहीं होनी चाहिए थीं. सिर्फ एक घटना को लेकर पूरे राज्य को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते. सभ्य समाज इस तरह की घटनाओं को बर्दास्त नहीं करती.'

बता दें कि तबरेज अंसारी को चोरी के आरोप में भीड़ ने पीटा और बाद में अस्पताल में उसकी मौत हो गई. झारखंड के खाद्य मंत्री सरयू राय ने भी इस घटना की आलोचना की है. साथ ही सरयू राय ने राज्य की विपक्षी पार्टियां पर सवाल खड़े करते हुए कहा है कि यह कहना गलत है कि रघुवर सरकार इस घटना को लेकर गंभीरता नहीं दिखाई.

'विपक्ष कमजोर और सोया हुआ है'

झारखंड के खाद्य मंत्री सरयू राय न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, ‘राज्य में एक मुस्लिम युवक की हत्या की घटना ‘छिटपुट' घटना थी और ऐसे अपराध की पुनरावृत्ति ना हो इसके लिए सरकार सख्त कदम उठाएगी. हम इस घटना की निंदा करते हैं और इसकी जांच होनी चाहिए. जब ऐसी घटनाएं होती हैं तो हमें यह स्वीकार करने की आवश्यकता है कि हमारे अंदर कुछ कमी है. हमें साथ मिलकर इस समस्या का समाधान खोजना चाहिए. हमारा प्रयास होगा कि राज्य में कानून व्यवस्था बेहतर होनी चाहिए. हमारे यहां समस्या विपक्ष की है. विपक्ष अगर जिम्मेवार रहे, मजबूत रहे तो सरकार पर कई तरह के दबाव आते हैं. लेकिन हमारे यहां विपक्ष सोया हुआ है और जिम्मेदार नहीं है.'

झारखंड में सरायकेला-खरसावां जिले के धातकीडीह गांव में भीड़ द्वारा पिटाई के बाद युवक तबरेज अंसारी की मौत हो गई थी


सरयू आगे कहते हैं, 'मोब लिंचिग रोकने का तरीका है कि समाज में जागरूकता लाई जाए. दो साल पहले भी इस तरह की घटना उसी इलाके में हुई थी. राज्य सरकार ने एसपी और डीसी लेवल के अधिकारियों पर भी आरोप तय कि थे. अधिकारियों के तबादले भी हुए थे. दो साल के बाद फिर इस तरह की घटना हुई है इस पर हमलोग काम कर रहे हैं.'

सरयू राय ने झारखंड के सभी विपक्षी नेताओं पर सवाल उठाते हुए कहा, विपक्ष अगर मजबूत रहे, विपक्ष समझदार रहे तो सत्ता पक्ष पर दबाव बना कर सरकार को सही दिशा में काम करवाया जा सकता है, लेकिन हमारे यहां समस्या यह है कि विपक्ष ही सोया हुआ है. विपक्ष एक तो कमजोर है दूसरा जिम्मेदार नहीं है. मीडिया में या फिर पार्टी के लोग ही जब मुद्द उठाते हैं तो विपक्षी नेताओं के ट्वीट आने लगते हैं. विपक्षी नेता भी अगर मामले उठाएं तो सरकार के लिए थोड़ी आसानी हो जाएगी.ये भी पढ़ें:

गरीबों को लेकर मोदी सरकार ने चला बड़ा दांव, जानें क्या हैं योजनाएं

गरीबों को भी मिल सकेगी कैंसर की सस्ती दवा, मोदी सरकार की ये है योजना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 29, 2019, 3:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर