झारखंड में जरूरी सेवाओं को छोड़कर हफ्ते में 3 दिन बंद रहेंगी दुकानें, चैंबर ऑफ कॉमर्स ने लिया फैसला
Ranchi News in Hindi

झारखंड में जरूरी सेवाओं को छोड़कर हफ्ते में 3 दिन बंद रहेंगी दुकानें, चैंबर ऑफ कॉमर्स ने लिया फैसला
झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स ने सप्ताह में तीन दिन दुकान बंद रखने का फैसला लिया है. (फाइल फोटो)

चैंबर (Jharkhand Chamber of Commerce) अध्यक्ष कुणाल आजवाणी ने कहा कि अगर इस बंद के सकारात्मक परिणाम मिलते हैं तो इसे आगे भी बढ़ाया जा सकता है. जरूरी सेवाओं को छोड़कर अन्य दुकानों को बंद (Shops Closed) कराने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी.

  • Share this:
रांची. झारखंड में बढ़ते कोरोना संक्रमण (Corona Infection) को देखते हुए झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स (Jharkhand Chamber of Commerce) ने एक बड़ा फैसला लिया है. इसके तहत अब राज्यभर में सप्ताह में तीन दिन व्यापारिक प्रतिष्ठानें बंद (Shops Closed) रखी जाएंगी. शुक्रवार, शनिवार और रविवार को जरूरी सेवाओं को छोड़कर अन्य सभी दुकानें बंद रखने का फैसला चेंबर ने लिया है. और इसको लेकर कारोबारियों से अपील भी की गई है.

चैंबर अध्यक्ष कुणाल आजवाणी ने कहा कि अगर इस बंद के सकारात्मक परिणाम मिलते हैं तो इस पर आगे विचार कर इसे बढ़ाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि चैंबर के फैसले के अनुसार सभी दुकानों को बंद कराने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी.

कारोबारियों के साथ बैठक कर लिया फैसला 



चैंबर अध्‍यक्ष ने कहा कि जीवन के साथ-साथ जीविका का भी चलना जरूरी है. व्‍यवसायियों के साथ बैठक कर काफी विचार-विमर्श के बाद चैंबर ने ऐसा निर्णय लिया है. साथ ही उन्‍होंने लोगों से खुद एहतियात बरतने की अपील करते हुए जरूरी होने पर ही घरों से निकलने की अपील की है.
चैंबर द्वारा कहा गया कि रोज कोरोना संक्रमण की चपेट में सैकड़ों इंसान आ रहे हैं. सड़कों पर किसी तरह के नियम कानून का पालन नहीं किया जा रहा है. राज्य में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए चैंबर ऑफ कॉमर्स ने लोकहित में ये बड़ा फैसला किया है. अब सूबे में जरूरी सेवाओं को छोड़कर सभी व्‍यावसायिक प्रतिष्‍ठान शुक्रवार, शनिवार और रविवार को बंद रहेंगी. चैंबर ऑफ कॉमर्स ने मंगलवार शाम प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इस बात की घोषणा की.

राज्य में स्मार्ट लॉकडाउन लगाने की पहल 

चैंबर महासचिव धीरज तनेजा ने कहा कि संक्रमण से बचाव हेतु निर्धारित सुरक्षा मानकों से लोगों की लापरवाही भारी पड़ रही है. ये न केवल स्वास्थ्य, बल्कि अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर भी भारी पड़ रही है. संक्रमण के बढ़ते फैलाव के बाद आखिर जब बात जान है तो जहान है, तक पहुंच जाय तो फिर शत-प्रतिशत सावधानी रखना अत्यंत आवश्यक है. संक्रमण से स्वयं, अपने परिवार व समाज को सुरक्षित रखने हेतु हमें स्वेच्छा से कड़े निर्णय करने ही होंगे. चूंकि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में संपूर्ण लॉकडाउन करना उचित नहीं है. इसलिए व्यापार व उद्योग जगत की भावना के अनुरूप फेडरेशन ऑफ झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्रीज द्वारा स्वेच्छा से राज्य में स्मार्ट लॉकडाउन लगाने की पहल की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज