लाइव टीवी

उग्रवादी आत्मसमर्पण करें नहीं तो पाताल से ढूंढकर मारेंगे: झारखंड CM

भाषा
Updated: October 3, 2019, 9:08 PM IST
उग्रवादी आत्मसमर्पण करें नहीं तो पाताल से ढूंढकर मारेंगे: झारखंड CM
मुख्यमंत्री दास ने चुनाव प्रचार के लिए शुरू की गई अपनी ‘जोहार जन आशीर्वाद’ यात्रा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, 'हमें भयमुक्त झारखंड बनाना है.'

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास (Raghubar Das) ने गुरुवार को नक्सलियों (Naxalite) को कड़ी चेतावनी दी है.

  • Share this:
बसिया (गुमला). झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास (Raghubar Das) ने गुरुवार को नक्सलियों (Naxalite) को कड़ी चेतावनी दी है. उन्होंने कहा कि राज्य में अंतिम सांस ले रहे उग्रवादी आत्मसमर्पण करें और मुख्यधारा से जुड़ें, अन्यथा उन्हें पाताल से भी ढूंढकर मार दिया जाएगा.

मुख्यमंत्री दास ने चुनाव प्रचार के लिए शुरू की गई अपनी ‘जोहार जन आशीर्वाद’ यात्रा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, 'हमें भयमुक्त झारखंड बनाना है. इस कार्य में जो बाधक होगा, उससे सख्ती से निपटा जाएगा. उग्रवादी राज्य के विकास कार्य के बाधक हैं. वर्तमान सरकार ने 5 वर्ष के कार्यकाल में उग्रवादियों की कमर तोड़ने का कार्य किया है, इस बात का अनुमान आपको भी होगा.' दास ने दो टूक कहा कि उग्रवादी आत्मसमर्पण करें, नहीं तो उन्हें सुरक्षाबल पाताल से भी ढूंढकर मार डालेंगे.

'राष्ट्रविरोधी शक्तियां सक्रिय'
रघुवर दास ने कहा कि गुमला और सिमडेगा में राष्ट्रविरोधी शक्तियां सक्रिय हैं. ये शक्तियां नहीं चाहतीं कि आदिवासियों का विकास हो. इनका काम आपको गुमराह करना है. ये कहते हैं कि भाजपा की सरकार आपकी जमीन छीन लेगी, लेकिन 5 वर्ष के कार्यकाल में वर्तमान सरकार ने किसी की जमीन नहीं छीनी. 'हम तो विकास के पक्षधर हैं और रहेंगे.'

लोग कांग्रेस और बीजेपी शासनकाल के बीच करें तुलना
मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की कि वे कांग्रेस के 60 साल के शासनकाल की तुलना 5 वर्ष के भाजपा के शासनकाल से करें. वर्तमान सरकार ने घर-घर बिजली, हर घर एलपीजी, स्वास्थ्य की सुविधा, सड़क, मुफ्त आवास समेत अन्य मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने का प्रयास किया है. गुमला और सिमडेगा में गरीबी है, विकास से यह अछूता है. उन्होंने कहा कि यही वजह रही कि वर्तमान सरकार ने अतिरिक्त बजट का प्रवधान करते हुए सिमडेगा के विकास हेतु 50 करोड़ रुपये दिए.

दास ने कहा कि यही कार्य अगर 60 साल सत्ता में रहने वाली कांग्रेस और झारखंड नामधारी पार्टियां करतीं तो सिमडेगा समेत पूरे राज्य की स्थिति कुछ और होती. इन पार्टियों ने सिर्फ और सिर्फ आदिवासियों के नाम पर, गरीबों के नाम पर राजनीति कर अपना स्वार्थ साधा.'मजदूर को बनाया सीएम'
उन्होंने लोगों से कहा, 'आपने एक मजदूर को राज्य का मुखिया बनाया. तब से लेकर अब तक यह मजदूर राज्य की जनता के कल्याण में जुटा है. बस उन कार्यों का लेखा-जोखा आपके समक्ष रखने आया हूं, क्योंकि लोकतंत्र में आप ही सर्वोपरि हैं.'
ये भी पढ़ें:
झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: जेडीयू ने 8 सीटों के लिए प्रत्याशियों का किया ऐलान

हत्या के आरोपी JMM नेता ने थामा BJP का दामन, पीड़ित परिजनों ने जताया विरोध

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 3, 2019, 9:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर