CM सोरेन ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी : 'राज्य के फंड चुके, फ्री वैक्सीन दीजिए'

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा.

Jharkhand Vaccination Drive : वैक्सीन डोज़ बर्बाद किए जाने के आंकड़े को लेकर केंद्र और झारखंड के बीच तनातनी के बाद खबर है कि राज्य के मुख्यमंत्री ने वित्तीय संकट का हवाला देकर लंबी चिट्ठी में प्रधानमंत्री से राज्य के लिए मुफ्त वैक्सीन मांगी है.

  • Share this:

रांची/नई दिल्ली. झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर मांग की है कि झारखंड के लिए 18 से 44 आयुवर्ग के लोगों के टीकाकरण के लिए कोविड वैक्सीन मुफ्त उपलब्ध करवाई जाए. इस पत्र में सोरेन ने साफ तौर पर कहा है कि राज्य की माली हालत ठीक नहीं है. ऐसे में, वह सीमित संसाधनों के चलते वैक्सीनेशन पर करीब 1100 करोड़ रुपये का खर्च उठाने में समर्थ नहीं है. इस हवाले से सोरेन ने आने वाले दिनों में राज्य पर पड़ने वाले वित्तीय बोझ को कम करने के लिए केंद्र से मदद मांगी है.

झारखंड में करीब 1.57 करोड़ पात्र लोग 18-44 आयुवर्ग के भीतर हैं. समाचार एजेंसियों ने रिपोर्ट किया है कि पीएम को लिखे पत्र में सोरेन ने कहा है कि इतने लोगों के वैक्सीनेशन के लिए राज्य पर 1100 करोड़ रुपये से ज़्यादा का बोझ पड़ेगा. यही नहीं, आने वाले समय में 12-18 आयु वर्ग में वैक्सीनेशन शुरू होगा, तो और 1000 करोड़ का खर्च होगा, जिसे वहन कर पाना झारखंड के लिए बेहद मुश्किल होगा क्योंकि कोरोना काल में राज्य के वित्तीय संसाधन पहले ही बोझ सह रहे हैं.

ये भी पढ़ें : 'अलग राज्य' आंदोलनकारियों को अब 20 साल बाद मिलेगी नौकरी और पेंशन


'इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ'

सोरेन ने अपने पत्र में कहा है चूंकि वैक्सीनेशन ही महामारी नियंत्रण का उपाय है इसलिए ज़रूरत के मुताबिक राज्य को वैक्सीन सप्लाई को प्राथमिकता दी जाना चाहिए. सोरेन ने इस बात को भी इंगित किया 'आज़ाद भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि टीकाकरण के लिए राज्यों पर वित्तीय ज़िम्मेदारी डाली गई. यह सहकारी संघ व्यवस्था के सिद्धांत के खिलाफ है.' गौरतलब है कि हाल में वैक्सीन डोज़ बर्बाद किए जाने के आंकड़ों को लेकर भी सोरेन केंद्र से सीधे भिड़ चुके हैं.

'फ्री वैक्सीन मिले तो हालात काबू में आएं'



राज्य की मजबूरी, सिद्धांतों और जारी समस्याओं का हवाला देते हुए सोरेन ने लिखा कि सभी आयु वर्ग के ​लोगों के लिए केंद्र को मुफ्त वैक्सीन देना चाहिए. फिलहाल 'राज्य को जिस तरह से कम वैक्सीन दी गई, उसके चलते वैक्सीनेशन अपेक्षा अनुसार नहीं हो सका. आगे तीसरी लहर पर असरदार ढंग से नियंत्रण के मद्देनज़र समय से ज़रूरत अनुसार वैक्सीन मिलना ही चाहिए.'

ये भी पढ़ें : तूफानी बारिश से बढ़ा खतरा, झारखंड में डेंगू, चिकनगुनिया फैला तो कोविड होगा बेकाबू!

इसके साथ ही, पत्र में सोरेन ने वैक्सीन जुटाने में आ रही मुश्किलों का भी हवाला दिया. केंद्र द्वारा तय की गई वैक्सीन की कीमतों को लेकर हो रही अड़चन के बारे में भी सोरेन ने चिट्ठी में ज़िक्र किया. बता दें कि बीते रविवार को सीएम ने यह भी सूचना दी कि राज्य में अब 18-44 वर्ग के लिए वैक्सीन डोज़ न के बराबर बचे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज